नहीं चले विधायक के निर्देश, अवैध खनन जारी!

- पत्रिका लगातार...

- अतिक्रमियों व खनन माफियों की पहुंच के आगे विधायक के निर्देश भी बेअसर
- आवंटित लीज के दायरे से बाहर सरकारी भूमि पर अतिक्रमण कर चला रहे कामकाज

- स्वयं तो कार्रवाई करना दूर, लोगों की शिकायत व सतारूढ पार्टी के विधायक की भी नहीं सुन रहे अधिकारी
- असाड़ा गांव के पहाड़ी क्षेत्र में सरकारी जमीन पर मशीनरी लगने का मामला

By: Mahendra Trivedi

Updated: 08 Dec 2019, 08:51 PM IST

बालोतरा . समीपवर्ती असाड़ा गांव के पहाड़ी क्षेत्र में चल रही खानों के मालिक आवंटित जमीन के दायरे से बाहर सरकारी भूमि पर अतिक्रमण कर खनन कर रहे हैं। इसकी जानकारी के बावजूद प्रशासन व राजस्व विभाग के अधिकारी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

बड़ी बात तो यह कि स्थानीय विधायक मदन प्रजापत ने प्रशासन व राजस्व विभाग को मिल रही शिकायतों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे, लेकिन अधिकारियों के लिए शायद ये आदेश कोई मायने नहीं रख रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि रिफाइनरी का कामकाज शुरू होने के साथ ही पत्थर, कंकरीट, मूंगिया की डिमांड बढ़ी है। इस पर कई लोगों ने समीपवर्ती असाड़ा, थोब, बागुंडी, आसोतरा क्षेत्र में क्रेशर लगाकर खनन कर रहे हैं।

हांलाकि खननकर्ता ने इसके लिए लीज ले रखी है, अधिक मांग के चलते लीजधारक आवंटित खान से बाहर सरकारी भूमि में अतिक्रमण कर मशीन स्थापित कर काम कर रहे हैं।इसे लेकर ग्रामीण लगातार राजस्व विभाग, प्रशासन और खनन विभाग को अवगत करवा रहे हैं, लेकिन कार्रवाई नहीं हो रही है।

नहीं चले विधायक के निर्देश

अधिकारी अपने कार्य के प्रति कितने सजग है यह इस बात से समझा जा सकता है कि पंचायत समिति सहित विभागीय बैठकों में स्थानीय जनप्रतिनिधि लोगों की समस्याओं को सुनकर समाधान के निर्देश देते हैं, लेकिन इसकी पालना नहीं होती है।

बैठक से रवाना होते ही अधिकारी अपना मनमाना रवैया अपनाते हैं। आलम यह कि सतारूढ कांग्रेस पार्टी के विधायक की भी अधिकारी नहीं सुन रहे हैं तो आम आदमी की प्रशासन से सजगता की उम्मीद रखना बेकार है।

Show More
Mahendra Trivedi Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned