15 किमी दायरे में फैल गया टिड्डी दल, नहीं आया काबू

-तीन दिन बाद पहुंची नियंत्रण के लिए टीम
-खेतों में फसल चट कर उड़ गए टिड्डी दल

By: Mahendra Trivedi

Published: 06 Jan 2020, 11:45 AM IST

गडरारोड़. खेतों में सफाया कर चुकी टिड्डी काबू आने से पहले ही उड़ कर दूसरे क्षेत्र में धावा बोल रही है। सीमातर्वी गिराब व अन्य गांवों में हमले के बाद टिड्डी दल रविवार को यहां से उड़ गया। कुछ बाकी बची टिड्डियों का विभाग की टीम ने नियंत्रित किया। लेकिन लम्बे-चौड़े 15 किमी क्षेत्र में फैली टिड्डी काबू में नहीं आई।

बाड़मेर के सीमावर्ती क्षेत्र गिराब सहित आसपास में जीरे की फसल को भारी नुकसान के साथ अन्य फसलें भी बर्बाद हो चुकी है। किसानों का कहना है कि कोई अधिकारी मौके पर नहीं आ रहा है। सभी से एक ही जवाब मिलता है टिड्डी नियंत्रण विभाग को फोन करो।

तीन दिन से टिड्डी का कहर

पिछले तीन दिन से गडरारोड तहसील क्षेत्र में 15-20 किमी के दायरे में वयस्क टिड्डियों पहुंची। जो हवा के साथ अपना रुख बदल लेती है। क्षेत्र के सरगीला, खलीफा की बावड़ी और गिराब के कुबडिय़ा, शास्त्री गांव, भू का गांव में टिड्डियों ने भारी कहर बरपाया। इसके बाद रविवार सुबह पांच गाडिय़ां नियंत्रण के लिए क्षेत्र में पहुंची। लेकिन छिड़काव होने तक काफी दल उड़ चुके थे।

हमारे खेत देखो, सब कुछ तबाह हो गया

प्रशासन की लापरवाही किसानों पर भारी पड़ रही है। हमारे फसलें बर्बाद हो गई, अब छिड़काव से क्या फायदा है। कोई हमारी भी तो सुनो, खेतों को तो देखो, सब कुछ तबाह हो चुका है। लेकिन कोई सुध लेने नहीं पहुंच रहा है!

-मोतीसिंह, किसान गिराब

देरी के कारण नुकसान ज्यादा

टिड्डी नियंत्रण विभाग ने अपनी टीमें गडरारोड़ से हटा दी। अब टिड्डी हमला होने पर बाड़मेर से गाडिय़ां पहुचती हैं। देरी के कारण टिड्डी नुकसान कर चुकी होती है। गुड़ामालानी क्षेत्र जैसी मशीनों मंगवाकर छिड़काव किया जाए।

- हाथीसिंह, किसान गिराब

Show More
Mahendra Trivedi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned