फायर ब्रिगेड, जीप, ट्रेक्टर और टैंकर सब कबाड़, देखिये स्टेडियम के हाल , आखिर कौन है जिम्मेदार ?

फायर ब्रिगेड, जीप, ट्रेक्टर और टैंकर सब कबाड़, देखिये स्टेडियम के हाल , आखिर कौन है जिम्मेदार ?

bhawani singh | Publish: Dec, 08 2017 01:40:11 PM (IST) Barmer, Rajasthan, India

फायर ब्रिगेड, जीप, ट्रेक्टर और टैंकर सब कबाड़

बाड़मेर.पचास लाख की फायर ब्रिगेड। आठ लाख की जीप। पंद्रह लाख के टैंकर। सात लाख टे्रक्टर और लाखों के अन्य वाहन और संसाधन। यह किसी की निजी संपत्ति होते तो इनकी छोटी-मोटी टूट-फूट को सही करने की फिक्र कर इसका काम लेता लेकिन नगरपरिषद ने इन्हें कबाड़ में डाल दिया। 16 साल से इनकी फिक्र भी नहीं है कि करना क्या है। बारिश, गर्मी और सर्दी में खुले में पड़ा यह कबाड़ आसपास में झाडि़यां उग जाने से एेसे पड़ा है। इस कबाड़ की नीलामी की प्रक्रिया को भी नहीं अपनाया गया है। कोढ़ पर खाज यह है कि इसकी सुरक्षा के लिए दो कर्मचारी लगाए गए है जिनकी तनख्वाह भी नगरपरिषद को देनी पड़ रही है।

नगरपरिषद ने सोलह साल से कण्डम वाहनों, संसाधनों व जप्त किए गए सामान को शहर के आदर्श स्टेडियम में लाकर भरना शुरू कर दिया। यहां बहुत बड़े भाग में यह कबाड़ अटा पड़ा है। सोलह साल के कबाड़ से भरे पड़े स्टेडियम को देखकर लगता है कि यह किसी कबाड़ी का गोदाम है। नगरपरिषद इसको लेकर कोई फिक्र नहीं कर रही है।

क्यों नहीं कर रही है नीलाम

स्टेडियम में कई वर्षों से पड़े कबाड की लिस्ट बनाने के बाद डीएलबी को भेजनी पड़ती है। इसके बाद स्वीकृति आने के बाद कमेटी की निगरानी में इसका निस्तारण करना पड़ता है। ऐसे में कई आयुक्त आए और चले गए लेकिन किसी ने इसका निस्तारण करना उचित नहीं समझा।

कार्यक्रम में करना पड़ता है व्यवस्थित
परिसर में कबाड़ भरा होने के कारण स्टेडियम में कार्यक्रमों के दौरान कबाड़ को व्यवस्थित करना पड़ता है। ऐसे में कर्मचारियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

निस्तारण के प्रयास करेंगे

स्टेडियम में सामान को सूचीबद्ध करवाया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट बनाकर डीएलबी को भेजी जाएगी। इसके निस्तारण का प्रयास किया जाएगा। अस्त व्यस्त पड़े सामान को जल्दी से व्यवस्थित करवाया जाएगा।
प्रकाश डूडी, आयुक्त नगर परिषद बाड़मेर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned