जागे जिम्मेदार, लाइनमैन से मांगा जवाब, जांच के बाद करवाएंगे एफआईआर

- वर्ष-2014 में लगे विद्युत पोल व एलइडी लाइट के गायब होने का मामला

 

By: भवानी सिंह

Published: 25 Apr 2018, 10:59 AM IST

बाड़मेर. नगर परिषद क्षेत्र में नेशनल हाइवे पर लगाए गए विद्युत पोल व एलइडी लाइट्स के गायब होने के मामले में नगर परिषद के जिम्मेदार अब गंभीरता दिखा रहे हैं। लेकिन करीब एक वर्ष तक जिम्मेदारों ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया और आंखों के सामने करीब 60 लाख रुपए के पोल गायब हो गए। अब हरकत में आए अधिकारी जांच करवाने की बात कह रहे हैं।


राजस्थान पत्रिका के 21 अप्रेल के अंक में 80 पोल गायब और नगरपरिषद बेखबर समाचार प्रकाशित होने के बाद नगर परिषद आयुक्त ने मामले की गंभीरता को देखते हुए विभागीय जांच शुरू कर लाइनमैन को नोटिस जारी किया है। मामले में हाइवे पर निर्माण करवा रही एनएचआइ से भी जानकारी जुटाई जा रही है। बताया जा रहा है कि यह पोल एनएचआइ के ठेकेदार की ओर हटाए गए। लेकिन किस की अनुमति से हटाए हैं, इसका जांच के बाद ही खुलासा होगा। गौरतलब है कि दो किमी के क्षेत्र में करीब 80 पोल लगे थे जिनकी लागत करीब 60 लाख रुपए थी।

 

यह हैं पूरा मामला

शहर के अम्बेडकर सर्किल से शहीद सर्किल के बीच वर्ष-2014 में विद्युतीकरण को लेकर प्रोजेक्ट तैयार किया गया था। इस पर करीब 60 लाख रुपए खर्च हुए थे। इसमें फर्म की ओर से दो किमी के क्षेत्र में करीब 80 पोल लगाकर उस पर 140 एलईडी लाइट्स लगाई थी, लेकिन गत माह पूर्व हाईवे को एनएचएआई की ओर विकसित किया गया है। यहां पर एनएचएआई की ओर से नए पोल लगाकर विद्युत लाइट्स लगाई है। ऐसे में नगर परिषद की ओर से लगाए गए पोल व लाइट्स हटा लिए गए। हटाकर इसको कौन ले गया इसका जबाव किसी के पास नहीं है?

 

जांच के आदेश दिए

मामले की जांच चल रही है। विभागीय जांच के बाद आगे की कार्रवाई होगी। एनएचआइ से भी जानकारी मांगी है। - पंकज मंगल , आयुक्त नगर परिषद बाड़मेर

 

जरूरी हुआ तो एफआइआर करवाएंगे
विद्युत पोल गायब होने के मामले में आयुक्त ने संबंधित को नोटिस जारी कर मामले में जवाब मांगा है। जांच के बाद जरूरी लगने पर एफआइआर भी दर्ज करवाएंगे।- लूणकरण बोथरा, सभापति नगर परिषद बाड़मेर

भवानी सिंह Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned