जसोल हादसे की जांच रिपोर्ट सरकार को भेजी दोषी कौन : कोई एक नहीं, कई सारे जिम्मेदार

जसोल हादसे की जांच रिपोर्ट सरकार को भेजी दोषी कौन :  कोई एक नहीं, कई सारे जिम्मेदार
Negligence at every level in Jasol: inquiry report

Moola Ram Choudhary | Updated: 12 Jul 2019, 11:12:37 AM (IST) Barmer, Barmer, Rajasthan, India

जसोल में हर स्तर पर बरती गई लापरवाही : जांच रिपोर्ट

संभागीय आयुक्त ने जसोल दुखांतिका की जांच रिपोर्ट सरकार को भेजी दोषी कौन : कोई एक नहीं, कई सारे जिम्मेदार सुझाव : तय हो आयोजनों के निरीक्षण की जिम्मेदारी

जोधपुर/बाड़मेर. जसोल दुखांतिका के 18 दिन बाद गुरुवार को जोधपुर के संभागीय आयुक्त ने मामले की जांच रिपोर्ट सरकार को भेज दी। जांच रिपोर्ट में हादसे के कारण, जिम्मेदार व ऐसे हादसे फिर ना हों, इसके सुझाव दिए गए हैं। इनमें ऐसे हादसों को रोकने के लिए आपदा प्रबंधन के निर्देशों की पालना, समारोह के निरीक्षण के लिए किसी एक की जिम्मेदारी तय करना और आयोजक व श्रमिकों को समय-समय पर ट्रेनिंग दिलवाने सहित कई सुझाव दिए गए हैं। करीब 40 बयान, हादसे के वीडियो भी जांच रिपोर्ट में शामिल किए गए हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि हादसे के लिए कोई एक जिम्मेदार नहीं हैं। हादसा कई जगहों पर बरती गई लापरवाही से हुआ। इनमें आयोजन की अनुमति से लेकर टेंट, जनरेटर और बिजली व्यवस्था जैसे कई मोर्चों पर लापरवाही रही।

जसोल हादसे के बाद सरकार ने संभागीय आयुक्त बीएल कोठारी को मामले की प्रशासनिक जांच के निर्देश दिए थे। संभागीय आयुक्त ने गत 6 जुलाई को जसोल में हादसे की जगह का निरीक्षण कर करीब 40 लोगों के बयान और हादसे के वीडियो देखे थे। गौरतलब है कि 23 जून को जसोल में रामकथा के दौरान तेज तूफान से टेंट के गिरने और करंट से 16 लोगों की मौत और 76 लोग घायल हो गए थे।

हादसों की रोकथाम के लिए किसी एक की जिम्मेदारी तय हो

-आपदा प्रबंधन की आेर से जारी होने वाले सभी निर्देशों की पालना हो।
- समारोह व आयोजन के लिए किसी एक अधिकारी या कर्मचारी की जिम्मेदारी तय की जाए।

- जिम्मेदार अधिकारी समारोह स्थल का निरीक्षण करें और कमी पाए जाने पर आयोजकों से ठीक करवाएं।
- समारोह के लिए अनुमति व नियमों की जानकारी के सर्कुलर समय-समय पर जारी किए जाएं।

- समारोह में टेंट व अन्य व्यवस्था करने वाले श्रमिकों व दुकानदारों को समय-समय पर सुरक्षा के उपाय की ट्रेनिंग दी जाए।
- समारोह स्थल पर सुरक्षा व फायर सेफ्टी के उपकरण हों और उन्हें उपयोग में लेना सिखाया जाए।


हादसे की जांच रिपोर्ट सरकार को भेज दी है। रिपोर्ट में ऐसे हादसे फिर न हो इसके लिए सुझाव दिए गए हैं। इसके साथ ही हादसे के कारणों और लापरवाही के बारे में भी जानकारी दी है।

-बीएल कोठारी, संभागीय आयुक्त, जोधपुर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned