अब दोहरी आफत, टिड्डी के साथ फाके से निपटना चुनौती

अब दोहरी आफत, टिड्डी के साथ फाके से निपटना चुनौती
outbreak of desert locusts in villages of Rajasthan's Barmer district

Ratan Dave | Updated: 19 Jul 2019, 06:23:39 PM (IST) Barmer, Barmer, Rajasthan, India

-नए क्षेत्रों में रोजाना पहुंच रही है टिड्डी
-फाका पनपने की आशंका से नहीं किया जा सकता है इनकार

-विभाग रोज कर रहा है दावा, फाका नहीं पनप रहा
-सीमावर्ती क्षेत्र में जन्म ले चुका है बड़ी संख्या में फाका

बाड़मेर. (outbreak of desert locusts ) थार में टिड्डी (locust) से पूरी तरह निपटने में विभागों के पसीने छूट रहे हैं। वहीं किसानों और ग्रामीणों के लिए टिड्डी के बाद अब फाके पनपने से चिंता बढ़ गई है। उस पर मौसम में आ रही नमी के कारण फाके के टिड्डी में बदलने में ज्यादा देर नहीं लगेगी। ऐसे में करोड़ों की संख्या में टिड्डी के हमले की आशंका सीमावर्ती क्षेत्र के साथ आसपास मंडराने लगी है।

( locust Warning Organisation ) (LWO) विभाग दावा कर रहा है कि टिड्डी नियंत्रण (Locust control barmer) में है, लेकिन जब फाके पनप चुके हैं तो फिर टिड्डी पर किस तरह नियंत्रण किया गया। ग्रामीणों से जानकारी में सामने आया कि जहां पर विभाग की ओर नियंत्रण का कार्य किया जा रहा है, वहीं पर फिर से टिड्डी नजर आ रही है। जबकि विभाग का दावा है कि केमिकल छिड़काव के बाद लम्बे समय तक टिड्डी वहां न तो पैदा हो सकती है और ना ही वहां तक पहुंच सकती है।

सर्वे और नियंत्रण की दोहरी जिम्मेदारी

पड़ताल में ये भी सामने आया है कि विभाग सर्वे और नियंत्रण की काम एक ही टीम से करवा रहा है। ऐसे में लम्बे चौड़े क्षेत्र में पहले सर्वे करना और फिर नियंत्रण का कार्य करना टीम के बूते के बाहर है। इसलिए नियंत्रण ढंग से नहीं हो पा रहा है और टिड्डी नए क्षेत्रों में पहुंच रही है।

लाखों की संख्या में पनप चुके फाके

टिड्डी नियंत्रण संगठन बार-बार दावा कर रहा है कि टिड्डी नियंत्रित है। इसलिए फाका नहीं पनप रहा है। लेकिन तामलोर में बड़ी संख्या में फाका मिलने के बाद विभाग अधिक अलर्ट हो गया है। इस संबंध में कृषि विभाग ने बताया था कि फाका पनप रहा है। लेकिन सामंजस्य के अभाव में सूचनाओं का आदान-प्रदान समय पर नहीं होने से टिड्डी नियंत्रण संगठन फाके के पनपने की सूचना से बेखबर ही रहा गया।

अब किसानों की बढ़ी चिंता

टिड्डी लगातार पाक की तरह से सीमावर्ती क्षेत्र में आ रही है, इससे इनकार टिड्डी नियंत्रण विभाग के अधिकारी भी नहीं कर रहे हैं। लेकिन उनका दावा है कि टिड्डी को नष्ट किया जा रहा है। जबकि हकीकत में टिड्डी दल नए क्षेत्रों में पहुंच रहे हैं। जिस पर विभाग नियंत्रण कर पाने में विफल रहा है। विभाग रोजाना आंकड़े जरूर बता रहा है कि इतने हेक्टेयर में छिड़काव किया।

लेकिन सर्वे के बावजूद विभाग को सीमावर्ती क्षेत्रों में पनप चुके फाके के बारे में जानकारी समय पर नहीं मिल पाई। ऐसे में किसानों की चिंता बढ़ती जा रही है। उनका कहना है कि फाका बढ़ गया तो फिर फसलों के चौपट होने में देर नहीं लगेगी। लाखों-करोड़ों की संख्या में टिड्डी सीमावर्ती क्षेत्र में पनप गई तो हालात नियंत्रण के बाहर हो जाएंगे। (outbreak of desert locusts )

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned