दलितों पर अत्याचार की हद हो रही पार

दलितों पर अत्याचार की हद हो रही पार

Dilip dave | Publish: Sep, 09 2018 10:19:57 PM (IST) | Updated: Sep, 09 2018 10:19:58 PM (IST) Barmer, Rajasthan, India

स्वाभिमान संकल्प सम्मेलन व रैली आयोजित- सुरक्षा के रहे कड़े बंदोबस्त

 

-

बालोतरा. कालूड़ी प्रकरण को लेकर रविवार को यहां भगतसिंह सभास्थल में अनुसूचित जाति जनजाति संघर्ष समिति के तत्वावधान में स्वाभिमान संकल्प सम्मेलन हुआ। इसके बाद रैली निकाल राष्ट्रपति के नाम उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। वहीं, दूसरी ओर कालूड़ी गांव में शांति रही, गांव में पुलिस का जाप्ता तैनात है।
करीब 5 घंटे तक चली सभा में वक्ताओं ने कालूड़ी प्रकरण के आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं होने पर नाराजगी जताते हुए शीघ्र कार्रवाई की मांग की। शिव के पूर्व प्रधान उदाराम मेघवाल ने कहा कि दलितों पर अत्याचार की अब हद पार हो रही है। सरकार दलितों से संबंधित प्रकरणों में नियम विरूद्ध जांच अधिकारी बदल देती है, जिससे जांच प्रभावित होती है। कालूड़ी प्रकरण में दोषियों को शह देने में संलिप्त अधिकारियों को निलंबित किया जाना चाहिए। कालूड़ी के लोगों पर जुल्म हुए पर पुलिस ने हल्की धाराओं में मामला दर्ज किया। हम मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री को सबक सिखाने की बात करते हैं, तो नेताओं के मुंह से सत्ता की लार टपकती है कि घर बैठे सत्ता मिलेगी। कांग्रेस ने कालूड़ी प्रकरण को लेकर कभी भी निंदा तक नहीं की। लक्ष्मण वडेरा ने कहा कि पुलिस व प्रशासन की आंख का पानी मर गया, तभी तो दलितों पर अत्याचार के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नही हो रही है। शारदा चौधरी ने कहा कि संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अम्बेडकर के बताए मार्ग पर चलें। दलितों के साथ भेदभाव नहीं होना चाहिए। जातिवाद को जड़ से मिटाना है। अमृतराम महाराज, आत्मानंद महाराज, जिला प्रमुख प्रियंका मेघवाल, मनीषसिंह, अशोक कुमार भीलवाड़ा, ताराराम मेहना, ओटाराम रोहिन, हुकमाराम राठौड़, धर्मेन्द्र जाटव, मूलाराम खोरवाल, किरण घूसर समेत कई जनों ने संबोधित किया।

---

रैली निकाली, सौंपा ज्ञापन- सम्मेलन के बाद लोग रैली के रूप में पचपदरा रोड, धानमंडी, प्रथम रेलवे फाटक, पुराना बस स्टैंड, गौर का चौक, कचहरी रोड होते हुए उपखंड कार्यालय पहुंचे। यहां प्रतिनिधिमंडल ने एसडीओ अनिल कुमार को राष्ट्रपति के नाम विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा।
प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को सात दिन में दोषियों को गिरफ्तार नही करने पर पीडि़तों की ओर से सात दिन में गांव छोड़ पलायन करने की चेतावनी दी।

---

सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त- सम्मेलन को लेकर पुलिस-प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कैलाशदान रतनू व जोधपुर ग्रामीण के खींवसिंह भाटी के नेतृत्व में बालोतरा वृत्त के थानों समेत अन्य थानों का जाप्ता तैनात किया। इसके अलावा जोधपुर से आरएसी की एक कंपनी, बाड़मेर पुलिस लाइन का रिजर्व जाप्ता भी सम्मेलन स्थल व अन्य स्थानों पर तैनात किया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned