पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान को दी बहस की चुनौती, कहा- स्थान वे तय करें,चाय व खाना हम खिलाएंगे, क्यों पढि़ए पूरा समाचार

रिफाइनरी की लागत को लेकर दावे- प्रतिदावे

By: Dilip dave

Published: 15 Jan 2018, 11:37 PM IST

 

 

-

बालोतरा.पचपदरा में प्रस्तावित रिफाइनरी की लागत व प्रदेश पर आर्थिक भार को लेकर भाजपा व कांग्रेस में दावे- प्रतिदावे जारी हैं। केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री अशोक प्रधान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चाय पर बुलाने की चुनौती पर कांग्रेस ने जवाब दिया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव हरीश चौधरी ने सोमवार को कहा कि केंद्रीय मंत्री जगह तय कर बता दें, हम उन्हें चाय पिलाने के बाद खाना भी खिलाएंगे पर वे पांच सवालों का जवाब दे दें।
पेट्रोलियम मंत्री को चुनौती देते हुए उन्होंने कहा कि बाड़मेर या बालोतरा में कहीं भी सार्वजनिक रूप से चर्चा कर सचाई बताएं। उन्होंने आरोप लगाया कि रिफाइनरी कार्य रोककर गुजरात को वेट का अनुचित लाभ दिया गया। निजी कंपनी को क्रूड ऑयल बेचकर प्रदेश को हजारों करोड़ के राजस्व का घाटा दिया गया।

रिफाइनरी की लागत 6 हजार करोड़ बढ़ी, भाजपा ने चार साल तक लटकाए रखा

- विधायक जैन की प्रेसवार्ता, भाजपा सरकार पर लगाए आरोप
बाड़मेर पत्रिका.
रिफाइनरी शुभारंभ को लेकर प्रधानमंत्री के दौरे से पहले कांग्रेस व भाजपा चुनावी फायदे के लिए हौड़ में है। दोनों दलों के पदाधिकारी एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने में जुटे है। विधायक मेवाराम जैन ने पत्रकार वार्ता में कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने प्रदेश हित में बाड़मेर में रिफाइनरी लगाने का काम किया, लेकिन भाजपा ने इसे चार वर्ष तक लटकाए रखा। अब चुनावी फायदे के लिए जनता के साथ धोखा किया है। भाजपा कह रही है, तेल हमारा, जमीन हमारी, पानी हमारा तो 26 प्रतिशत भागीदारी क्यो रखी? उन्होंने कहा कि वर्ष-2013 में हुए एमओयू में रिफाइनरी की लागात 37 हजार करोड़ थी, लेकिन आज वो बढकर 43 हजार करोड़ हो गई। उन्होंने कहा कि यह 6 हजार करोड़ अधिक हो गई है, अब इसके लिए जिम्मेदार कौन है? भाजपा वालों की नियत में खोट है। अब सरकार बैकफुट पर आ गई है। ऐसे में मजबूरी में शुभारंभ करना पड़ रहा है। साढ़े चार साल बाद भी एमओयू को सार्वजनिक न करके जनता को गुमराह किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि साधुसंत, गोपालक सब सड़कों पर है। भाजपा के कुशासन से हर वर्ग दु:खी है। पेयजल परियोजना अधरझूल पड़ी है। मेडिकल कॉलेज शुरू नहीं करा पाए। भाजपा के पास विकास के नाम बाड़मेर में एक काम भी गिनाने लायक नहीं है।

Dilip dave Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned