मुख्यमंत्री ने जैन संत मुनि तरूण सागर को दी श्रद्धांजलि, इस बात पर की चेतना संस्थान अध्यक्ष रूमादेवी की वाहवाही

मुख्यमंत्री ने जैन संत मुनि तरूण सागर को दी श्रद्धांजलि, इस बात पर की चेतना संस्थान अध्यक्ष रूमादेवी की वाहवाही

bhawani singh | Publish: Sep, 02 2018 03:55:30 PM (IST) Barmer, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/barmer-news/

बाड़मेर.
बाड़मेर जिले में अपने दौरे के वक्त गुड़ामालानी—सभा में मुख्यमंत्री ने जैन संत मुनि तरूण सागर के निधन पर गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए दो मिनट का मौन रखवाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। कहा कि कड़वे प्रवचन देकर मुनि तरूण सागर जीवन जीने की दिशा देने वाले संतों में थे, उनका देवलोकगमन अपूरणीय क्षति है।

 

रूमा की वाहवाही की
ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान अध्यक्ष रूमादेवी ने मुख्यमंत्री के सम्बोधन के समय संस्थान की महिलाओं की ओर से तैयार की गई एपलिक वर्क की साड़ी भेंट की तो उन्होंने रूमा देवी की प्रशंसा करते हुए बताया कि रूमा के निर्देशन में २२ हजार महिला कारीगर काम कर रही हैं। यहां की महिलाओं की तैयार किए गए कपड़े अब विदेशों में जाने लगे हैं। उन्होंने रूमा से कहा कि बाड़मेर वालों को कभी फिल्म तो दिखा दो।

 

चौहान की कुशलक्षेम पूछी...
बाड़मेर में समाजसेवी तनसिंह चौहान से मिलने मुख्यमंत्री उनके निवास पहुंची। यहां करीब सवा घंटा तक रुकी और चौहान की कुशलक्षेम पूछी व परिजन से बातचीत की। चौहान के पुत्र जोगेन्द्रङ्क्षसह व राजेन्द्रसिंह से भी चर्चा की।

 

जगदीशपुरी से आशीष लिया
चौहटन में आम सभा समाप्त होने के बाद मठ पहुंच महंत जगदीशपुरी से आशीष ली। इस दौरान राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित चौहटन मेले के समाचार को देखकर उत्साहित हुर्इं और कहा कि इतने लोगों की आस्था है यहां पर। उन्होंने यहां मठ में विकास कार्यों को लेकर ढ़ाई करोड़ रुपए की घोषणा की।

 

गुड़ामालानी में विधायक एवं संसदीय सचिव लादूराम विश्नोई, चौहटन में विधायक तरूणराय कागा को बुलाकर क्षेत्र में राज्य सरकार के कार्यकाल में हुए कार्यों की जानकारी देते हुए ताईद करवाई कि ये कार्य हुए हैं। गुड़ामालानी के कार्यक्रम में पहुंचते ही यहां मौजूद संतों से आशीष ली। प्रदेश मंत्री केके विश्नोई ने संतों का परिचय करवाया और उनको शॉल व श्रीफल भेंट करते हुए मुख्यमंत्री ने चरण छुए। तीनों सभाओं में स्कूली बालिकाएं केसरिया साफा पहनकर पहुंची। ये आकर्षण में रही। मुख्यमंत्री ने भी इनके पास पहुंचकर उत्साह के साथ हाथ मिलाया।

 

तीनों सभाओं में सुरक्षा इंतजाम कड़े रहे। ९ पुलिस अधीक्षक, ६० आरपीएस, १५० सब इंस्पेक्टर सहित करीब ३००० पुलिसकर्मी लगे। काले कपड़े के शर्ट, टीशर्ट और गमछे भी सभा के बाहर उतरवाए। मेटल डिटेक्टर से जांच कर एक-एक व्यक्ति को भेजा गया। ड्रोन कैमरा से कार्यक्रम पर नजर रखी गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned