रतन रॉयल क्लब बाड़मेर बनी विजेता, समापन समारोह आज

रावणा राजपूत समाज जिला स्तरीय क्रिकेट

By: Dilip dave

Published: 09 Jan 2021, 07:07 PM IST

बाड़मेर. रावणा राजपूत समाज जिला स्तरीय क्रिकेट खेलकूद प्रतियोगिता समापन समारोह रविवार दोपहर 12 बजे बालिका छात्रावास सोनोणी दोहटों की ढाणी बाड़मेर गादान में होगा।

कार्यक्रम संयोजक चुतरसिंह दोहट ने बताया है जिला स्तरीय क्रिकेट व खेलकूद प्रतियोगिता में अतिथि प्रदेश युवाध्यक्ष पहाड़सिंह कुण्डल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी रेलवे मनोज कुमार परिहार, महिला प्रदेशाध्यक्ष नीलू भाटी, पूर्व प्रधान केकड़ी रिंकूकंवर राठौड़, महिला जिलाध्यक्ष शर्मिला चौहान, जिला संरक्षक गोरधनसिंह राठौड़, फरससिंह पंवार,नगर अध्यक्ष देवीसिंह राठौड़, जिला युवाध्यक्ष पृथ्वीसिंह पंवार, धनसिंह मौसेरी, पार्षद जयमलसिंह परिहार, उप प्रधान छोटूसिंह पंवार होंगे।

जिला खेल मंत्री बाबूसिंह चौहान ने बताया कि फाइनल मैच रतन रॉयल क्लब बाड़मेर व जय मां भवानी रोहिड़ा पाड़ा के बीच खेला गया जिसमें 10 ओवर में रतन रॉयल क्लब बाड़मेर ने 108 रन बनाए जवाब में जय भवानी रोहिड़ा पाड़ा 81 रन पर सिमट गई। अंपायर की भूमिका गोपालसिंह गोयल, पृथ्वीसिंह पंवार ने निभाई। स्कोरर रावतसिंह देवड़ा, सवाईसिंह भाटी ने निभाई।

विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित- सह संयोजक खीमसिंह चौहान ने बताया कि समाज सभा भवन में महिला जिलाध्यक्ष शर्मिला चौहान के आतिथ्य में मेंहदी, चित्रकला, समान्य ज्ञान परीक्षा आयोजित की गई जिसमें निर्णायक भूमिका दुर्गा तिवारी, सत्या सिद्धा व संध्या ने निभाई।

यह भी पढ़ें...दुनिया उसी की इज्जत करती जो समय की करता कद्र

बाड़मेर. समय प्रबन्धन ही जीवन प्रबंधन है। यह दुनिया उसी की इज्जत करती है जो वक्त की कद्र करता है क्योंकि समय से महत्वपूर्ण जीवन में कुछ भी नहीं है। उक्त विचार एमबीसी राजकीय स्नातकोत्तर कन्या महाविद्यालय की ओर से विद्यार्थीजीवन और समय प्रबन्धन विषय पर आयोजित वेबिनार में कार्यक्रम अध्यक्ष प्राचार्य डॉ. हुकमाराम सुथार ने व्यक्त किए।

डॉ. सुथार ने छात्राओं को बताया कि व्यक्ति जीवन में सबकुछ अर्जित कर सकता है, लेकिन एक बार व्यय किया गया समय कभी वापस लौटकर नहीं आता इसलिए विद्यार्थी समय की महत्ता को समझे तथा इसका सदुपयोग करें। वेबिनार का संचालन करते हुए मुकश पचौरी ने कहा कि समय प्रबन्धन सुनने में एक शब्द है लेकिन अपनाने पर जिंदगी बदलने वाला व्यवहार है।

गणपतसिंह राजपुरोहित ने छात्राओं को समय का उचित प्रबंधन करने के लिए अपनी प्राथमिकताएं निर्धारित करते हुए नियमित अध्ययन तथा अन्य गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया। सभी संकाय सदस्यों ने विद्यार्थी जीवन में समय के प्रबन्धन को लेकर विचार व्यक्त किए।

Dilip dave Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned