नकल गिरोह के सरगना से एसओजी उगलवा रही राज

- गिरफ्तार कुख्यात जगदीश विश्नोई से अन्य गैंग के संबंध में पूछताछ जारी
- 50 हजार के ईनामी को एसओजी ने किया था गिरफ्तार

- नकल करवाने में शिक्षक सहित प्राचार्य भी होते थे शामिल

By: Mahendra Trivedi

Published: 19 Mar 2020, 12:29 PM IST

बाड़मेर/जयपुर. स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) की गिरफ्त में आए नकल गिरोह के सरगना कुख्यात जगदीश विश्नोई से पूछताछ में कई खुलासे हो रहे हैं। एसओजी उससे अन्य गैंग के संबंध में भी पूछताछ कर रही है।

एसओजी के एडीजी अनिल पालीवाल ने बताया कि पूछताछ में आरोपी ने कबूल किया कि वर्ष 2002 में नकल करना शुरू किया। सांठगांठ करते हुए शिक्षकों से पेपर में आने वाले प्रश्नों के नोट्स पहले ही ले आते थे। बाद में असली परीक्षार्थी की जगह आरोपी खुद परीक्षा देने जाता था।

इसके बदले उसे मोटी रकम मिलने लगी। आरोपी ने कई परीक्षार्थियों की जगह खुद ने परीक्षा दे चुका है। इसक बाद अन्य कई गैंग उससे जुड़ते गए। आरोपी की गैंग बढ़ी तो पेपर लीक करवाने लगे।

परीक्षा से पहले पेपर उनकी गैंग के पास पहुंच जाता था। इसके लिए उसने शिक्षक से लेकर प्राचार्य तक को शामिल कर रखा था।

परीक्षाएं ऑनलाइन हुई तो कंप्यूटर हैक करना सीख लिया

ब्लूटूथ से नकल करने लगे। इसके लिए परीक्षा शुरू होने से पहले पर्चा उनके पास पहुंच जाता और ब्लूटूथ के जरिए प्रश्नों के जवाब परीक्षा दे रहे परीक्षार्थी को बता देते थे। पर्चा लीक नहीं होने पर बटन जैसे कैमरे परीक्षार्थियों की शर्ट की बांह पर लगाकर भेजते और मक्खी जैसा (नजर नहीं आने वाला) ब्लूटूथ परीक्षार्थी कान में लगाकर जाता।

परीक्षार्थी कैमरे के जरिए पेपर के प्रश्न दिखाता। प्रश्नों का स्क्रीन शॉर्ट लेकर मौके पर बैठे सभी तरह के विशेषज्ञ आधा घंटे में सभी प्रश्नों के हल कर परीक्षार्थी को ब्लूटूथ के जरिए बता देते। ऑनलाइन परीक्षाएं होने पर हरियाणा की गैंग से संपर्क कर कम्प्यूटर को हैक कर प्रश्नों का हल भी किया था।

जयपुर लेकर रवाना हुई टीम

एसओजी ने बाड़मेर कोतवाली थाने में दर्ज नकल के एक मामले में आरोपी जगदीश विश्नोई को गिरफ्तार किया था। आरोपी को मंगलवार को बाड़मेर न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे दस दिन के रिमांड पर एसओजी को सौंपा है। एसओजी ने आरोपी जगदीश की निशानदेही से बाड़मेर से कुछ दस्तावेज जब्त किए हैं और बुधवार शाम को आरोपी को जयपुर के लिए लेकर रवाना हो गई।

पूर्व में बाड़मेर पुलिस ने चार जनों किया था गिरफ्तार

कोतवाली थाना पुलिस ने 5 मई 2018 को बीएसटीसी परीक्षा के दौरान शहर की एक होटल में दबिश देकर चार जनों को गिरफ्तार किया था। उनके कब्जे से बीएसटीसी का पेपर हल किया हुआ बरामद हुआ था। पूछताछ में नकल गिरोह का खुलासा हुआ था। उसके बाद से मुख्य आरोपी फरार चल रहा था।

Show More
Mahendra Trivedi Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned