छात्र राजनीति का चढऩे लगा रंग, आज लगेगी आचार संहिता

- सोशल मीडिया पर छाने लगे प्रचार के नए तरीके, कॉलेज में बढ़ गई चुनावी हलचल

By: भवानी सिंह

Published: 18 Aug 2017, 11:56 AM IST

- सोशल मीडिया पर छाने लगे प्रचार के नए तरीके, कॉलेज में बढ़ गई चुनावी हलचल

बाड़मेर. कॉलेज कैंपस की चुनावी सियासत में छात्रसंघ घोषणा के बाद पहले दिन गुरुवार से ही रंग चढऩे लगा है। प्रमुख संगठनों ने अभी से मतदान की तारीख को ध्यान में रखते हुए तैयारी शुरू कर दी है। अब अध्यक्ष पद की दावेदारी को लेकर घमासान होगा। प्रमुख संगठन प्रत्याशी को लेकर मजबूत दावेदार की तलाश में है। वहीं इधर कई छात्रनेता स्वयं को अध्यक्ष पद का दावेदार बताकर प्रचार कर रहे हैं। छात्रनेताओं ने कॉलेज परिसर के साथ-साथ सोशल मीडिया पर प्रचार के नए तरीके आजमाने शुरू किए हैं। शहर में जगह-जगह पोस्टर लगाकर प्रचार किया जा रहा है।

 


रणनीतिकारों ने संभाली कमान

छात्रसंघ चुनाव में प्रमुख संगठनों ने जीत के लिए रणनीतिकारों ने कमान संभाल ली है। दावेदारी जता रहे प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ विभिन्न समाज के छात्रावासों में पहुंच अपने पक्ष में वोट मांग रहे हैं।

 


गल्र्स कॉलेज में नहीं माहौल

पीजी कॉलेज से इतर गल्र्स कॉलेज में चुनावी माहौल अभी नजर नहीं आ रहा है। यहां पीजी कॉलेज प्रत्याशियों की तरह पोस्टर वार भी नहीं है और ना ही किसी प्रकार की नारेबाजी।

 


चुनाव आचार संहिता: ये नियम मानने होंगे

- कॉलेज परिसर में प्रवेश के लिए छात्र परिचय-पत्र होना जरूरी।
- बाहरी तत्वों का प्रवेश प्रतिबंधित।

- परिसर में लाठी, हॉकी स्टिक सहित किसी भी प्रकार का हथियार लाने पर रोक।
- कॉलेज की दीवारों पर पोस्टर चिपकाने पर प्रतिबंध।

- प्रत्याशी केवल हस्तलिखित पोस्टर और प्रचार सामग्री ही निर्धारित स्थानों पर प्रदर्शित कर सकते हैं।
- परिसर में रैली-सभा के लिए कॉलेज प्रशासन से अनुमति जरूरी।

- पांच हजार हो पूरे चुनाव पर खर्च।
- कॉलेज कैंपस में ही कर सकेंगे चुनाव प्रचार

- धार्मिक व सार्वजनिक स्थालों पर चुनावी सभाओं पर रोक

-  सोशल मीडिया पर छाने लगे प्रचार के नए तरीके, कॉलेज में बढ़ गई चुनावी हलचल

भवानी सिंह Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned