खुद ही रची कार व 23 लाख पार होने की कहानी

पचपदरा के गुलाब सर्किल पर एक पखवाड़े पूर्व रेस्टोरेंट से कार व इसमें रखे 23 लाख रुपए पार होने की घटना

By: मुकेश शर्मा

Published: 15 Apr 2016, 11:57 PM IST

बालोतरा।पचपदरा के गुलाब सर्किल पर एक पखवाड़े पूर्व रेस्टोरेंट से कार व इसमें रखे 23 लाख रुपए पार होने की घटना का गुरुवार को पुलिस ने खुलासा कर दो जनों को दस्तयाब किया है। पुलिस के अनुसार जमीन कारोबारी ने आर्थिक तंगी में एक पार्टी से पैसों के लिए सहानुभूति व दबाव बनाने को सहयोगियों से मिल कहानी बनाई व उसे अंजाम दिया। हालांकि अभी तक कारोबारी पुलिस की पकड़ से बाहर है।


जोधपुर के सरदारपुरा निवासी रतनलाल बोहरा ने गत 1 अप्रेल की रात्रि में स्वयं की छोड़ी कार व इसमें रखे 23 लाख रुपए गायब होने की शिकायत पचपदरा थाने में दर्ज करवाई। घटना के दूसरे दिन पुलिस को कार भाण्डियावास गांव में एक मोबाइल टावर के समीप मिली। मौके पर बाड़मेर से पहुंची मोबाइल फोरेंसिक यूनिट व डीसीआरबी शाखा के विशेषज्ञों ने जांच की। उन्होंने जमीन कारोबारी रतनलाल तथा उसके सहयोगियों की मोबाइल कॉल डिटेल खंगाली।


इस पर शक की सुई रतनलाल पर टिक गई। टीम ने रतनलाल के सहयोगी कुड़ी भगतासनी हाउसिंग बोर्ड जोधपुर निवासी राजेश पुत्र रैवालाल आचार्य व विरेन्द्रसिंह उर्फ सोनू पुत्र दिलीपसिंह सांखला रावणा राजपूत को दस्तयाब कर गहन पूछताछ की तो उन्होंने सच्चाई उगल दी।


आर्थिक तंगी के चलते रचा षड्यंत्र : जमीन कारोबारी ने आर्थिक तंगी व भीनमाल की किसी पार्टी में अपनी बड़ी रकम फंसी होने के कारण पुराने मित्र राजेश आचार्य से मिल षड़यंत्र रचा। उसने राजेश को विश्वास दिलाया कि पचपदरा थाने में उसकी सेटिंग है इससे पुलिस मामले की केवल औपचारिक जांच ही करेगी। इससे उसे किसी तरह की परेशानी नहीं होगी। इसी अनुरूप उसने थाने में झूठा मामला दर्ज करवाया।

यंू रची कहानी


राजेश आचार्य ने जोधपुर के ड्राइवर विरेन्द्रसिंह उर्फ सोनू को तय प्लान के मुताबिक रतनलाल के साथ जोधपुर से पचपदरा रवाना किया। दोनों शाम करीब 6:30 बजे गुलाब सर्किल पहुंचे। वहां रतनलाल ने सोनू को अपनी गाड़ी की दूसरी चाबी देकर उतार दिया। खुद गाड़ी लेकर आई माता रेस्टोरेंट पहुंच अपने मोबाइल व गाड़ी की पहली चाबी रेस्टोरेंट स्टाफ को सुपुर्द कर शौच निवृत्त होने चला गया। सोनू रेस्टोरंट के बाहर खड़ी गाड़ी अपने पास की चाबी से स्टार्ट कर भाण्डियावास गांव के समीप एक मोबाइल टावर में पार्क कर वहां से जोधपुर रवाना हो गया। रतनलाल ने पचपदरा थाने पहुंच अपनी गाड़ी व उसमें रखे 23 लाख रुपए चोरी होने की रिपोर्ट पेश की।

जमीन कारोबारी का नहीं पता

चोरी की मनगढ़ंत कहानी का खुलासा होने पर पुलिस ने गुरुवार को रतनलाल के मोबाइल नंबर पर सम्पर्क कर उसे पचपदरा बुलाने की कोशिश की, लेकिन उसने सामान्य बात कर मोबाइल स्विच ऑफ कर दिया। जानकारों के अनुसार जमीन कारोबारी पूर्व में भी इस तरह की मनगढ़ंत घटनाओं को अंजाम दे चुका है।


एसपी ने की टीम            की सराहना


प्रकरण सुलझाने में पचपदरा थानाधिकारी जयकिशन सोनी, कांस्टेबल मांगूसिंह, अशोक चौधरी, बाड़मेर कम्प्यूटर ब्रांच भूपेन्द्रसिंह, ड्राइवर हनुमानराम का विशेष सहयोग रहा। इस पर जिला पुलिस अधीक्षक (एसपी) परिस देशमुख ने टीम की सराहना की।

व्यापारी की तलाश जारी


 कार चोरी व रुपए पार होने की कहानी व्यापारी ने ही रची। दो जनों को दस्तायाब कर पूछताछ की तो उन्होंने सच्चाई बताई। व्यापारी की तलाश की जा रही है।
-जयकिशन सोनी, थानाधिकारी, पचपदरा
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned