बाड़मेर. श्री क्षत्रिय युवक संघ के संस्थापक व पूर्व सांसद तनसिंह की 97वीं जयंती पर समारोह सोमवार को भारतीय ग्राम्य आलोकायन आश्रम बाड़मेर मेें हुआ।

इस दौरान तनसिंह की तस्वीर के समक्ष दीप प्रज्वलित किया गया।
समारोह में संघ प्रमुख भगवानसिंह रोलसाहबर ने कहा कि संघ अपने 75 वर्ष पूर्ण करने पर 22 दिसम्बर 2021 को जयपुर में हीरक जयंती मनाने जा रहा है, जिसमें आपको में आमंत्रित करता हूं, क्योंकि किसी संस्थान के जीवन में ऐसे बहुत कम अवसर आते हैं।

उन्होंने मातृशक्ति को अधिक संख्या में संघ से जुडऩे का आह्वान किया। उन्होंने बताया कि मातृशक्ति की सहभागिता से ही बच्चों में संस्कार का निर्माण का कार्य किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जयंतियां हमेशा उन्हीं की मनाई जाती है, जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपना अहम योगदान दिया। वर्तमान पीढ़ी में संस्कार निर्माण कार्य करने के लिए संघ गांव-गांव जाकर शिविर, शाखा लगाकर युवाओं में हमारे इतिहास, संस्कृति, परम्परा का पाठ पढ़ा रहा है। हमें हर वस्तु का कृतज्ञ रहना चाहिए, जिससे हमें कुछ न कुछ सीखने को मिलता है।

हमें तनसिंह के पद चिन्हों पर चलते हुए व उन्हें अपने जीवन में उतारने का प्रयास करें।
शिक्षाविद् कमलसिंह चूली ने तनसिंह के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि तनसिंह एक अच्छे लेखक, कवि, राजनीतिज्ञ, समाजसेवक थे, जिन्होंने राजनीति को अपने ऊपर हावी होने नहीं दिया।

उन्होंने हमेशा स्वच्छ राजनीति की,, जिसकी बदौलत वो हर मानस के दिलों पर छाए हुए है। उनको सुनने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ता था। जयंती समारोह में सैकड़ों की संख्या में स्वंयसेवक व अन्य लोग मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned