बाड़मेर. भिंयाड़ क्षेत्र के ग्राम पंचायत कश्मीर के राजस्व गांव एड की बस्ती के ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं को तरस रहे हैं। गांव में बिजली, पानी, सडक़ व स्वास्थ्य सुविधाओं का अभाव है। ग्रामीण मोहनराम ने बताया कि इन सभी समस्याओं से कई बार सरकारी अधिकारियों से लेकर जनप्रतिनिधियों को अवगत करवाया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। ग्रामीणों के अनुसार राजस्व गांव बने दस साल हुए हैं जबकि सुविधाएं एक भी मुहैया नहीं करवाई गई है। जीएलआर बना हुआ है, लेकिन वह भी जर्जर है और नियमित जलापूर्ति नहीं हो रही। एएनएम की नियुक्ति नहीं होने से स्वास्थ्य सेवाओं से भी गांव वंचित है। पानी और सडक़ से वंचित देथों की ढाणीग्राम पंचायत आरंग के राजस्व गांव रातकोडिय़ा के देथों की ढाणी में नौ साल से पेयजल संकट है। 30 घरों की बस्ती तक जाने के लिए रास्ता नहीं होने से लोगों को आवागमन में दिक्कत होती है। ग्रामीण बाबूदान देथा ने बताया कि गांव में जलापूर्ति नहीं हो रही है। पेयजल समस्या को लेकर जलदाय विभाग के आधिकारियो से लेकर जनप्रतिनिधियों को अवगत करवाने के बावजूद समस्या हल नहीं हो पाई। एेसे में लोग महंगा पानी खरीद पीने को मजबूर है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned