scriptWhy was not a single district formed in the state for 14 years? | ditrict 14 साल से राज्य में क्यों नहीं बना एक भी जिला | Patrika News

ditrict 14 साल से राज्य में क्यों नहीं बना एक भी जिला

प्रदेश में चौदह साल पहले 28 जनवरी 2008 को प्रतापगढ़ का गठन हुआ था,

बाड़मेर

Published: March 14, 2022 11:30:13 pm

बाड़मेर पत्रिका.
प्रदेश में चौदह साल पहले 28 जनवरी 2008 को प्रतापगढ़ का गठन हुआ था,इसके बाद से नया जिला नहीं बना है। 14 साल में प्रदेश की आर्थिक प्रगति, आबादी और राजस्व ढांचे का विस्तार हुआ है लेकिन जिलों की मांग को सरकार स्वीकार नहीं कर रही है। इसके लिए गठित आईएएस परमेश्वर समिति की सिफारिशें लागू नहीं की गई है।
राज्य में जिलों के गठन को लेकर मांग लंबे समय से है। 2018 में आईएएस परमेश्वर समिति का गठन कर नए जिलों को लेकर विचार प्रारंभ हुआ। कमेटी के सामने 24 जिलों से करीब पचास जगह की मांग आ गई और इसको लेकर कमेटी ने अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को भेज दी।
जिले बनाने की थी तैयारी
परमेश्वर कमेटी की रिपोर्ट बाद जिले बनाने की तैयारियां तात्कालीन राज्य सरकार ने की थी और मुख्यमंत्री के जालौर के एक कार्यक्रम में बालोतरा को जिला घोषित करने की उम्मीदें तो इतने परवान पर थी कि पचपदरा के उस समय के विधायक अमराराम चौधरी की ओर से खुशियां मनाने की तैयारियां की गई थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
मौजूदा सरकार ने नकारा
मौजूदा सरकार से विधानसभा में इसको लेकर सवाल किया गया तो यह कहकर खारिज कर दिया था कि परमेश्वर समिति की सिफारिश में केवल अध्यक्ष परमेश्वर के ही दस्तखत है, समिति के शेष सदस्यों के नहीं है। इसलिए इसको लागू नहीं किया जा सकता है।
यहां की मांग- बाड़मेर में बालोतरा, जयपुर में सांभरलेक, शाहपुरा, फुलेरा, कोटपुतली, जोधपुर में फलौदी, अजमेर से ब्यावर, केकड़ी, मदनगंज-किशनगढ़ जिले की दावेदारी कर रहे हैं। उदयपुर से सलूंबर, खैरवाड़ा, सराड़ा, अलवर से बहरोड़, खैरथल, भिवाड़ी, नीमराना, पाली से बाली, सुमेरपुर, फालना, श्रीगंगानर के अनूपगढ़, सूरतगढ़, घड़साना, श्रीविजयनगर, चूरू से सुजानगढ़, रतनगढ़ ,नागौर के डीडवाना, कुचामन सिटी, मकराना, मेड़ता सिटी, सीकर से नीमकाथाना, फतेहपुर शेखावाटी, श्रीमाधोपुर, भरतपुर से डीग, बयाना, कामां, सवाईमाधोपुर से गंगापुरसिटी, जैसलमेर से पोकरण, बारां से छबड़ा, करौली से हिंडौनसिटी, हनुमानगढ़ से नोहर,भादरा, बीकानेर से नोखा, भीलवाड़ा से शाहपुरा, झालावाड़ से भवानीमंडी, जालोर से भीनमाल, चित्तौडग़ढ़ से रावतभाटा और कोटा के रामगंजमंडी की मांग की गई थी।
बालोतरा अब बड़ी मांग
बालोतरा की अब बड़ी मांग बनने की वजह रिफाइनरी, ओद्यौगिक हब और बड़ा निवेश है जो लगातार यहां हो रहा है।
ditrict  14 साल से राज्य में क्यों नहीं बना एक भी जिला
ditrict 14 साल से राज्य में क्यों नहीं बना एक भी जिला

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.