134 मीटर की डूब में आ रहे 15 परिवारों को जबरदस्ती हटाने पहुंचा प्रशासन, विरोध के बाद लौटे

134 मीटर की डूब में आ रहे 15 परिवारों को जबरदस्ती हटाने पहुंचा प्रशासन, विरोध के बाद लौटे
134 मीटर की डूब में आ रहे 15 परिवारों को जबरदस्ती हटाने पहुंचा प्रशासन, विरोध के बाद लौटे

Riyaz Sagar | Updated: 20 Aug 2019, 09:33:34 PM (IST) Barwani, Barwani, Madhya Pradesh, India

 

बड़वानी. सरदार सरोवर बांध के बढ़ते बेकवाटर से डूब में आ रहे गांवों को खाली कराने का काम प्रशासन ने आरंभ कर दिया है। मंगलवार को प्रशासनिक अमला दल-बल के साथ पिछोड़ी में नाले किनारे रह रहे डूब प्रभावितों को हटाने पहुंचा था। यहां डूब प्रभावितों और अधिकारियों के बीच जमकर बहसबाजी भी हुई। डूब प्रभावितों के बढ़ते विरोध के बाद प्रशासनिक अमला लौट गया। यहां रह रहे डूब प्रभावितों का कहना था कि पुनर्वास नीति का लाभ नहीं मिला है, ऐसे में हम कैसे घर खाली करके जा सकते हैं।

बड़वानी तहसील के डूब ग्राम पिछोड़ी में नाले के बेकवाटर से डूब आ रही है। 134 मीटर वाटर लेवल होने पर यहां निचली बस्तियों में पानी घुसना आरंभ हो जाएगा। प्रशासन यहां 134 मीटर की डूब में आ रहे 15 परिवारों के विस्थापन के लिए मंगलवार दोपहर 1 बजे पहुंचा। अमले में एडीएम रेखा पंकज राठौर, एसडीएम अभयसिंह ओहरिया, तहसीलदार राजेश पाटीदार, एनवीडीए ईई आरएस चौंगड़, पुलिस बल और एनडीआरएफ, एसडीआरएफ के जवान शामिल थे। अमले को देखते ही महिलाएं घरों के सामने खड़ी हो गई और विरोध करने लगी। महिलाओं ने जमकर नारेबाजी भी की।
टीन शेड में ले जाना चाहते अधिकारी

प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा समझाइश देने के बाद भी महिलाएं हटने को तैयार नहीं हुई। लोगों का कहना था कि पुनर्वास नीति का आधा-अधुरा लाभ मिला है। किसी को प्लाट नहीं मिला तो किसी को मुआवजा नहीं मिला। ऐसे में यहां से कैसे खाली करा सकते हैं। एनवीडीए ने घर-प्लाट दिए नहीं, अब अधिकारी बोल रहे हैं कि टीन शेड में चले जाओ। डूब पभावितों का कहना था कि पहले पुनर्वास करों, फिर यहां से हटेंगे। विरोध के चलते प्रशासनिक अमला पहले तो वापस लौट गया, लेकिन दोपहर 3.30 बजे एक बार फिर पिछोड़ी पहुंचा। इस दौरान नबआं के कार्यकर्ता भी यहां पहुंच गए और उन्होंने भी विरोध शुरू कर दिया। जिसके बाद अमले को दोबारा वापस लौटना पड़ा। हालांकि प्रशासन की समझाइश पर एक डूब प्रभावित हगरिया पिता केसिया ने स्वेच्छा से मकान खाली किया।

 

डूब पभावितों का कहना था कि पहले पुनर्वास करों, फिर यहां से हटेंगे।
IMAGE CREDIT: patrika
डूब पभावितों का कहना था कि पहले पुनर्वास करों, फिर यहां से हटेंगे।
IMAGE CREDIT: patrika

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned