20 लाख की जमीन का दे रहे चार लाख मुआवजा

20 लाख की जमीन का दे रहे चार लाख मुआवजा

seraj khan | Publish: Dec, 08 2017 12:54:38 PM (IST) Barwani, Madhya Pradesh, India

12 प्रभावितों ने लगाई आपत्ति, तीन गांव के 79 प्रभावितों की 78.96 हेक्टेयर जमीन आ रही डूब में...

बड़वानी.

जिले के सबसे पिछड़े पाटी विकास खण्ड में नहर सिंचाई के लिए बेड़दा तालाब परियोजना के प्रभावितों ने मुआवजे को लेकर आपत्ति दर्ज कराई है। गुरुवार को इन १२ किसानों की दावा-आपत्ति पर एसडीएम महेश बड़ोले द्वारा सुनवाई की गई।
इन किसानों का कहना था कि एक हेक्टेयर जमीन का चार लाख रुपए मुआवजा दिया जा रहा है, जबकि सिंचित जमीन है और २० लाख रुपए हेक्टेयर के मान से मुआवजा मिलना चाहिए। एसडीएम ने सुनवाई कर शासन की गाइड लाइन के अनुसार ज्यादा से ज्यादा लाभ दिलाने का आश्वासन किसानों को दिया।
पाटी ब्लॉक के बेड़दा में १२६.९६ हेक्टेयर में जल संसाधन विभाग द्वारा बेड़दा तालाब परियोजना आरंभ की गई है। इसमें तीन गांव गंधावल, डोंगरगांव और बेड़दा के ७५ और दो गांव चिकलगुआवाड़ी और पंचगांव के ४ किसानों की कुल ७८.९६ हेक्टेयर जमीन डूब में आ रही है। डूब में आ रही ४८ हेक्टेयर जमीन शासकीय भूमि है। यहां धारा चार की प्रक्रिया हो चुकी है। जिसके बाद दावा आपत्ति बुलाई गई थी। डूब प्रभावित १२ किसानों ने अपनी दावा आपत्ति पेश की।
डोंगरगांव निवासी गंगाराम पिता चरसिंग ने बताय कि उसकी 5.२४ हेक्टेयर जमीन डूब में जा रही है। शासन द्वारा कम मुआवजा दिया जा रहा है। जबकि सिंचित भूमि होने से उसकी कीमत अधिक है। इसी तरह की आपत्ति अन्य किसानों ने भी दर्ज कराई।


नहर से सिंचित होंगे पांच गांव
जल संसाधन विभाग के एसडीओ विजेंद्रसिंह डोडवे ने बताया कि परियोजना में नहर से पांच गांव गंधावल, डोंगरगांव, वलन, मुआसवाड़ा, पलवट की १३९० हेक्टेयर में सिंचाई होगी। साथ ही तालाब से लगे करीब सात गांव के किसान मोटरपंप से सिंचाई कर सकेंगे। किसानों की आपत्ति पर उन्होंने बताया कि रजिस्ट्रार की गाइड लाइन के अनुसार दो गुना मुआवजा दिया जा रहा है। दावे आपत्ति पर एसडीएम न्यायालय में सुनवाई के बाद ही निराकरण निकलेगा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned