BIRD FLU: खरगोन जिले में बर्ड फ्लू की पुष्टि, अलर्ट हुआ बड़वानी जिला

लगातार हो रही कौओं की मौत, अब तक नहीं आई एक भी रिपोर्ट, पड़ौसी जिले में पुष्टि के बाद जिला अलर्ट पर, विभाग की टीम ने की पोल्ट्री फार्म की जांच

By: vishal yadav

Updated: 09 Jan 2021, 11:21 AM IST

बड़वानी. जिले में लगातार कौओं की मौत हो रही है। हालांकि अब तक जिले से भेेजे गए सेंपलों की कोई रिपोर्ट नहीं आई है। वहीं पड़ौसी खरगोन जिले में बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद यहां अलर्ट बढ़ गया है। शुक्रवार को भी शहर में अलग-अलग स्थानों पर कौओं की मौत हुई। वहीं एक स्थान पर सुस्त उल्लू को विभाग के चिकित्सक ने दवाई देकर वन विभाग के सुपुर्द किया।
उल्लेखनीय है कि जिलेभर में करीब 100 कौओं की मौत हुई है। शुक्रवार को शहर के न्यू हाट बाजार स्थल के समीप चार-पांच कौअे मृत अवस्था में देखे गए। वहीं शाम को न्यू हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में कौओं मृत मिलने से लोगों में सनसनी फैल गई। फिलहाल पशुपालन विभाग द्वारा ऐसे पक्षी जिनकी मौत बगैर कारण से हो रही हैं, उनके सेंपल लेकर भोपाल लेब में भेजे जा रहे है। जिले से अब सिर्फ आठ सेंपल भेजे हैं। इसमें कौअे के साथ कतूबर भी शामिल है। हालांकि अब तक एक सेंपल की भी रिपोर्ट नहीं आई है। इससे बर्ड फ्लू को लेकर जिले में शंका-आशंका का दौर बना हुआ है।
नन्हा उल्लू हुआ तंदूरस्त
विभाग की डॉ. साक्षी दुबे ने बताया कि शुक्रवार दोपहर शहर के आरटीओ कार्यालय में एक उल्लू का बच्चा सुस्त अवस्था में बैठा होने की सूचना मिली थी। मौके पर जाकर उल्लू को सावधानीपूर्वक पशु चिकित्सालय के पॉली क्लिनिक लाया गया। यहां उसे पानी व दवाई पिलाई गई। संभवत: डिहाईड्रेशन से उल्लू की तबियत बिगडऩे की आशंका है। कुछ देर बाद नन्हें उल्लू उडऩे की कोशिश भी करने लगा। इसके बाद वन विभाग की टीम को सूचना देकर उनके सुपुर्द किा गया। उसकी उम्र करीब 10-12 माह होगी। इसी तरह ग्राम बरुफाटक में कौअे के जमीन पर रेंगने की सूचना पर विभाग के कर्मचारियों ने दवाई दी। जिसके बाद वह उडऩे लगा।
सूचना पर नहीं आने की शिकायत
शहर में प्रतिदिन अलग-अलग क्षेत्रों में कौओं की मौत की खबरे सामने आ रही है। वहीं इसको लेकर लोगों द्वारा पशुपालपन विभाग द्वारा समय पर नहीं आने की शिकायत भी की जा रही है। शुक्रवार शाम हाउसिंग बोर्ड में एक कौअे की मौत की सूचना के बाद करीब करीब दो घंटे तक पशुपालन विभाग से कोई जि मेदार नहीं पहुंचा।
पोल्ट्री व्यवसाय पर रोकथाम नहीं
जिले में बड़ी सं या में पोल्ट्री फार्म संचालित होते है। बर्ड लू को लेकर मुर्गे-मुर्गियां भी शंका के घेरे में है। हालांकि इनमें अभी बर्ड लू के लक्षण नहीं मिले है। फिर भी जिले से मु य रुप से खरगोन व महाराष्ट्र की ओर से परिवहन होता है। फिलहाल जिले से इनके परिवहन पर कोई रोकथाम नहीं की गई है।
कौअे, कबूतर व बगुले के सेंपल भेजे
जिले से अब तक कुल आठ सेंपल जांच के लिए भोपाल भेजे है। इसमें से एक भी सेंपल की रिपोर्ट नहीं आई है। इससे जिले में बर्ड लू की पुष्टि नहीं हुई है। भेजे गए सेंपल कौअे, कबूतर व बगुले के है। वैसे पड़ौसी जिले में पुष्टि होने पर पूरे विभाग के अमले को शासन की गाइड लाइन अनुसार कार्रवाई के निर्देश दिए है। शहर में पांच पोल्ट्री फार्म का निरीक्षण किया है। -डॉ. लक्षमण बघेल, पशु चिकित्सा अधिकारी बड़वानी

Show More
vishal yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned