ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन यूनिट का नक्शा मुंबई में अटका

Rahul Gangwar

Publish: Jun, 15 2018 02:08:45 AM (IST)

Barwani, Madhya Pradesh, India
ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन यूनिट का नक्शा मुंबई में अटका

१५ लाख रुपए मंजूर पर जगह की कमी ने रोकी सेप्रेशन यूनिट, स्वास्थ्य विभाग के कार्यपालन यंत्री ने किया निरीक्षण, अब पुरानी यूनिट के पास करेंगे दो अतिरिक्त कमरे होगी मरम्मत

बड़वानी. नगर के जिला अस्पताल में बनने वाली ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन यूनिट का काम लाखों का बजट स्वीकृत होने के बाद भी शुरू नहीं हो सका। इसकी मुख्य वजह जगह की कमी के कारण मुंबई से नक्शा स्वीकृत नहीं होना बताया जा रहा है। इसे लेकर इंदौर संभाग राष्ट्रीय स्वास्थ्य विभाग के कार्यपालन यंत्री आरके सिंघल जिला अस्पताल पहुंचे। यहां उन्होंने सीएस व विभाग के इंजीनियर से चर्चा की। अब पुरानी ब्लड यूनिट के पास दो कमरे बनाने के साथ मरम्मत की जाएगी। इसके लिए अगल से बजट स्वीकृत किया जाएगा।
स्वास्थ्य विभाग के इंजीनियर जुगल किशोर ने बताया कि पुरानी ब्लड यूनिट के पास खाली जगह में नई ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन यूनिट बनना थी। इसके लिए पहले नक्शा बनाया था। १० नवंबर २०१६ को १५ लाख रुपए स्वीकृत हुए थे। जो करीब १२४६ स्क्वेयर फीट में बननी थी, लेकिन जगह की कमी के कारण मुंबई से नई यूनिट का प्रस्ताव पास नहीं हो सका। इसमें ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन यूनिट व क्यूसी रूम बनना था। उल्लेखनिय हैै कि पिछले दिनों क्षेत्रिय संचालक डॉ.लक्ष्मी बघेल जिला अस्पताल के निरीक्षण के लिए पहुंची थी। तब सीएस डॉ.अनिता सिंगारे ने ब्लड यूनिट के संबंध में चर्चा की थी। उन्होंने कहा था कि विभाग के इंजीनियर को भेजकर कमियों को दूर किया जाएगा।

दो कमरे बनेंगे, होगी मरम्मत
कार्यपालन यंत्री आरके सिंघल ने निरीक्षण के बाद पुरानी ब्लड यूनिट के पास दो कमरे बनाने बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि पुरानी यूनिट की मरम्मत कराई जाएगी। इसके साथ ही दो कमरे बनेंगे। इसमें रजिस्ट्रेशन रूम व मेडिकल एक्जामिनेशन रूम रहेगा। इसके लिए अलग से स्वीकृति लेना पड़ेगी।
इंदौर में ली ट्रेनिंग
ब्लड कंपोनेंट यूनिट के लिए लैब टेक्निशियन को पहले ट्रेनिंग लेना होती है। इसके लिए मनीष पांचाल ने एक साल इंदौर में ट्रेनिंग भी ली थी। इसके बाद १३ मार्च को उन्होंने ज्वाईन किया था।

कोताही बरतने पर तहसीलदार पर 5 हजार जुर्माना
बड़वानी . मप्र लोक सेवाओं के प्रदान की गांरटी अधिनियम का उल्लंघन करने पर कलेक्टर अमित तोमर ने अंजड़ तहसीलदार सविता चौहान पर 5 हजार रुपए की राशि का दंड कर आवेदकों को दिलवाने का आदेश दिया है। लोक सेवा प्रबंधन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार समाधान एक दिवस अंतर्गत 23 आवेदनों का निराकरण समय सीमा में नहीं करने से पदाभिहित अधिकारी अंजड़ तहसीलदार सविता चौहान पर कलेक्टर तोमर ने 250 रुपए रोजाना के मान से 23 आवेदकों के लिए 5 हजार रुपए का दंड आरोपित किया है। अधिरोपित राशि की वसूली तहसीलदार के वेतन में से की जाएगी।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned