डूब की त्रासदी ने राजघाट को किया बेनूर, अब बचे है सूखे ठूंठ

पहले हरियाली से ढंका रहता था मां नर्मदा का तट, अब छाई है वीरानी, बिना किसी सूचना के पेड़ों को काट रहा वन विभाग, टहनी गिरने से मां नर्मदा प्रतिमा का टीनशेड टूटा

बड़वानी. हरियाली और लोगों की आवाजाही से सालों तक रोशन रहने वाले मां नर्मदा के तट राजघाट में बैक वाटर की डूब के बाद वीरानी छा गई है। डूब से बाहर आने के बाद अब यहां सिर्फ सूखे हुए पेड़ों को ठंूठ ही नजर आते हैं। डूब का असर कम होने के बाद यहां बर्बादी का सन्नाटा ही नजर आ रहा है। वहीं यहां पसरे कीचड़ के कारण भी समस्याएं आ रही है। हालांकि डूब का असर कम होने के बाद फिर से यहां लोगों की आवाजाही शुरू हो गई है।
यहां के हालात पहले की तरह होने में अभी थोड़ा समय लग सकता है। उसके बाद फिर से यहां माहौल पहले जैसा नजर आने लगेगा। इधर डूब का पानी कम होने के बाद राजघाट में वन विभाग द्वारा पेड़ों का कटाई शुरू कर दी है। शुक्रवार को यहां एक सूखा नीम का पेड़ काटने के दौरान मां नर्मदा प्रतिमा के स्थान पर लगा टीनशेड का एक हिस्सा पेड़ की टहनी गिरने से क्षतिग्रस्त हो गया। इस पर यहां के लोगों ने विरोध दर्ज कराया। इस संबंध में वन विभाग के कर्मियों ने बताया कि डिपो की जगह के सूखे पेड़ काटना है। टीनशेड का नुकसान हुआ है तो उसे ठीक करा देंगे।

vishal yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned