समाज को मजबूत करने के लिए साधु और साध्वियों का मजबूत होना जरुरी

साली में आयोजित धर्मसभा के दौरान साध्वी रमणीककुंवर मसा ने कहा

बड़वानी. गुरु शिष्य का शिल्पकार होता है। हमारे जीवन में गुरु का अपना महत्व होता है। गुरु वंदनीय होकर हमारे उत्थान की पहली सीढ़ी है। ये बातें निमाड़ सौरभ साध्वी रमणीककुंवर मसा ने ग्राम साली में एक धर्मसभा के दौरान अपने व्याख्यान में कही। उन्होंने कहा कि कर्म कभी किसी का सगा नहीं होता है, जो कर्मों का बंध मनुष्यभव करता है। वहीं उन्हें भोगता भी है। समाज को मजबूत करने के लिए साधु साध्वियों का मजबूत होना जरुरी है।
साली में मालवमणि प्रवर्तिनी साध्वी चांदकुंवर मसा की शिष्या मानव धर्म की प्रखर वक्ता विदूषी शांतिकुंवर मसा की 74वीं दीक्षा जयंती एवं 83वीं जन्म जयंती पर ग्राम साली में प्रवचन फरमा रहे थे। जैन श्रीसंघ साली ने तप, त्याग, एकासन एवं सामायिक दिवस के रूप में मनाने का संकल्प लिया था। पूज्या नूतनप्रभा मसा ने कहा कि जीवन में 3 बातों का विशेष महत्व है। गति तथा प्रगति में बड़ा अंतर है। गुरु भक्ति में बड़ी ताकत होती है। इस मौके पर अंजड़, बड़वानी, राजपुर, तलवाड़ा, भागसुर, खरगोन, पिपल्या, करही आदि स्थानों के श्रीसंघ उपस्थित थे। कार्यक्रम के लाभार्थी गिरीश कुमार विजय कुमार भंडारी परिवार थे।
आज अंजड़ में होगा प्रवेश
निमाड़ सौरभ पूज्या साध्वी रमणीककुंवर मसा दमुजीष् आदी ठाणा 5 का गुरुवार को अंजड़ प्रवेश होगा। साली से विहार कर साध्वी मंडल अक्षरधाम कॉलोनी निवासी विजय भंडारी के निवास पर आएंगे। सुबह 9.30 बजे जैन उपाश्रय में व्याख्यान होंगे। इधर, आचार्य रामलाल मसा की आज्ञानुवर्तिनी शासन दीपिका पूज्या अविचल मसा, साध्वी राजुल मसा, साध्वी महिता मसा आदी ठाणा 3 का भी गुरुवार को धानमंडी स्थित जैन स्थानक भवन में मंगल प्रवेश होगा। जैन श्री संघ ने अधिक से अधिक लाभ लेने की अपील की है।

vishal yadav
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned