Murder - आपसी विवाद में पिता ने कर दी बेटे की निर्मम हत्या

शराब और जुए को लेकर रोज होता था झगड़ा
हत्या कर फरार हो गया हत्यारा, आरोपी की हो रही तलाश
मासूम बच्चों के सिर से उठ गया पिता का साया
हत्या की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस और एफएसएल टीम

By: tarunendra chauhan

Published: 25 May 2020, 06:14 PM IST

बड़वानी. शहर के समीप बावनगजा रोड स्थित नानीबड़वानी में रविवार सुबह एक पिता ने बेटे को मौत के घाट उतार दिया। यहां हुई 30 वर्षीय युवक की हत्या के मामले को लेकर उसकी पत्नी और मां ने बताया कि पिता व पुत्र के बीच झगड़ा हुआ था। युवक की मौत की सूचना पर पुलिस टीम ने मुआयना कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। एफएसएल अधिकारी ने साक्ष्य ढूंढने के प्रयास किए। इसके बाद एएसपी और एसडीओपी ने मौका मुआयना किया। वहीं दोपहर तीन बजे एसपी ने मौके पर पहुंच मामले की जानकारी ली।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नानीबड़वानी के बनियाफलिया में दयाराम (30) पिता धूमसिंह का शव उसके घर के बाहर खटिया पर पड़ा मिला। मौके पर जांच के लिए पहुंचे एफएसएल अधिकारी ने मुआयना किया। टीआई राजेश यादव ने बताया कि रविवार सुबह 8 बजे मृतक के परिजनों ने सूचना दी। मृतक का शव घर के बाहर खटिया पर पड़ा मिला। उसके गले में हथियार से रगड़ के निशान मिले हैं। एफएसएल जांच के अनुसार यह निशान दराते को उल्टा चलाने से हुए हंै। वहीं उसके गले के ही गमछे से उसका गला घोंटा गया है। उसका गमछा घर के अंदर अधजली हालत में मिला है। इससे आशंका हैं कि हत्यारा परिवार से जुड़ा हो सकता है। वहीं मौके पर अन्य कुछ सामग्री मिली है, जिसे जांच के लिए सफेद घेरा बनाकर रिकार्ड में लिया। जानकारी के अनुसार मृतक के तीन बच्चे हैं। एक लड़का 12-13 वर्ष और तीन छोटी बालिकाएं हंै। इसमें एक दुधमुंही बच्ची है। इन मासूम बच्चों के सिर से पिता का साया उठा गया। पुलिस ने मृतक की पत्नी, मां और बड़े लड़के से पूछताछ कर जानकारी ली और मामले की जांच की जा रही है। उधर मीडिया से चर्चा में मृतक की पत्नी व मां ने कहा कि शराब और पत्ते के पैसों के लिए दोनों झगड़ते थे।

मौके पर पहुंचे एसपी, ली जानकारी
हत्या की सूचना पर सुबह कोतवाली पुलिस और एसडीओपी अंतरसिंह जमरा मौके पर पहुंचे। वहीं कोतवाली से एएसपी सुनीता रावत ने आकर मामले की जानकारी प्राप्त की। वहीं मौके पर एफएसएल अधिकारी बीएस बघेल ने साक्ष्य तलाशने की प्रयास किया। दोपहर तीन बजे पुलिस अधीक्षक डीआर तेनीवार भी मौके पर पहुंचे।

चौथे लॉकडाउन में बढ़े गंभीर अपराध
बता दें कि 22 मार्च जनता कफ्र्यू से 19 मई तक जिले में लॉकडाउन जारी रहा। शुरु के तीन लॉकडाउन में जिले में गंभीर अपराधों में कमी रही। वहीं चौथे लॉकडाउन के बाद से जिले में कुछ थाना क्षेत्रों में हत्याओं के एकाएक मामले सामने आ रहे हैं।

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned