Navratri 2020 - नवरात्रि में मां कालिका माता मंदिर में किया मातारानी का भव्य शृंगार

मां कालिका दरबार में पहुंचे कलेक्टर किया पूजन

By: tarunendra chauhan

Updated: 18 Oct 2020, 03:13 PM IST

बड़वानी. शहर के प्राचीनतम मां कालिका माता मंदिर में नवरात्र के चलते धार्मिक आयोजन प्रारंभ हो गए हैं। कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा भी शनिवार को सुबह मां कालिका के दरबार में पहुंचे और पूजन किया। वहीं नवरात्रि पर कोविड के मद्देनजर की जाने वाली व्यवस्थाओं की जानकारी भी मंदिर व्यवस्थापकों से प्राप्त की। इस दौरान कलेक्टर ने निर्देशित किया कि किसी भी स्थिति में राज्य शासन के नियमों एवं निर्देशों का उल्लंघन न होने पाए, ये अनिवार्य रूप से मंदिर व्यवस्था समिति सुनिश्चित कराएगी। इसके तहत ऐसी व्यवस्था की जाएगी कि एक तरफ से श्रद्धालु दर्शन के लिए आते रहे और वहीं दूसरी तरफ से बिना अवरोध से जाते रहे। इसके लिए उन्होंने सोशल डिस्टेंस का पालन कराने के लिए गोले बनाने एवं जगह-जगह पदाधिकारियों को तैनात कर मास्क लगाने के नियम का पालन करवाने के भी निर्देश दिए। कलेक्टर के निरीक्षण के दौरान कालिका माता के पुजारी अशोक पण्डित, पार्षद मिथुन यादव सहित अन्य व्यवस्थापक हेमंत अग्रवाल, अश्विन पुरोहित, संजू वाजपेयी उपस्थित थे।

नवरात्र प्रारंभ होते ही माता भक्त आदिशक्ति की आराधना में रम गए हैं। प्राचीनतम मां कालिका माता मंदिर में शनिवार को माता की प्रतिमा का आकर्षक शृंगार किया गया। इस दौरान श्रद्धालुओं ने माता का पूजन-अर्चन किया।

वहीं ग्रामीण क्षेत्र में भी शनिवार सुबह से माता के भक्तों की हलचल शुरू हो चुकी थी। नगर के कई मंदिरों में सैकड़ों श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचे। वहीं कई परिवारों ने अपने यहां माता भगवती की घट स्थापना की। माता के मंदिरों को आकर्षक विद्युत सज्जा से सजाया गया है। रात में माता का दरबार बेहद आकर्षक लग रहा है। नगर के आस्था के केंद्र छोटी और बड़ी बिजासन माता मंदिर, गायत्री मंदिर, जलाराम मंदिर, सप्तशृंगी माता मंदिर, मनसा माता मंदिर, बगलामुखी माता मंदिर सहित कई मंदिरों में आकर्षक साज सज्जा कर विधि-विधान से माता का पूजन शुरू हुआ है। अब 9 दिनों तक प्रतिदिन विशेष आयोजन होंगे। नगर के मोती बाग चौक, मुखर्जी चौराहा, रामकटोरा निवाली रोड, देवझिरी आदि क्षेत्रों में पांडाल सजाकर माता की प्रतिमा की स्थापना की गई है।

लोग विधि विधान से माता की प्रतिमा लेकर पहुंचे और मंत्रोच्चार के साथ स्थापना की गई। किला परिसर में सुबह से माता की प्रतिमा लेने के लिए ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के भक्त बड़ी संख्या में पहुंचे थे। हालांकि पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार कम भीड़ बाजार में देखी गई। ग्रामीण अंचलों में सार्वजनिक आयोजन समितियों द्वारा माता की प्रतिमा खरीदने सेंधवा पहुंचे और जय माता दी के जयघोष के साथ माता की प्रतिमा उत्साह के साथ अपने-अपने गांव में स्थापना के लिए ले गए।

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned