किसानों को ठंड नहीं लगती क्या साहब, दो दिन में समय बदलें

200 किसान पहुंचे तहसीलदार के पास, दो दिन में शेड्यूल नहीं बदला तो करेंगे धरना प्रदर्शन

By: मनीष अरोड़ा

Published: 04 Jan 2018, 06:34 PM IST


ठीकरी (बड़वानी ). विद्युत मंडल की मनमानी के चलते किसानों की फजीहत हो रही है। मप्र राज्य किसानों को 10 घंटे बिजली प्रदाय करता है, जो कि 2 शिफ्टों में 6 व 4 घंटे होती है। किसानों को ठंड नहीं लगती क्या साहब जो रात के 12 बजे व सुबह 4 बजे बिजली प्रदाय करते हो। क्षेत्र में ठंड को देखते हुए स्कूलों और ऑफिसों के समय में अकसर परिवर्तन किया जाता रहा है, लेकिन किसानों को लगने वाली ठंड का कोई ख्याल नहीं रखता है। ये बातें बड़वानी जिला भारतीय किसान संघ के किसानों ने कही। भाकिसं ने तहसीलदार राजेश कुमार सोनी को एक ज्ञापन सौंप देते हुए चेतावनी दी है कि यदि विद्युत मंडल सिंचाई के लिए दी जाने वाली बिजली का समय नहीं बदलेगा तो तहसील कार्यालय के सामने धरना देंगे।
ज्ञात हो कि नए वर्षों से विद्युत मंडल ने कृषि सिंचाई के लिए विद्युत प्रदाय का नया समय निर्धारित किया है, जो कि दो शिफ्टों में है। इसमें से एक शिफ्ट रात 12 से 4, दूसरी 4 से 10 बजे की है। ऐसे में किसानों का प्रश्न है कि क्या किसानों को ठंड नहीं लगती है, जो आप इस तरह रात में बिजली प्रदान करते है। देना ही है तो दिन में भी 10 घंटे बिजली दी जा सकती है। ऐसे में किसानों को ही परेशान करने का आखिर मकसद क्या है।
किसानों ने विविकं के कनिष्ठ यंत्री ऋषभ राजपूत को भी आवेदन देकर समय में परिवर्तन कर एक साथ 10 घंटे बिजली प्रदाय के लिए निवेदन किया है। इस मौके पर तहसील अध्यक्ष बादल पाटीदार, जिला सदस्य महेश पाटीदार, जिला मंत्री सुधीर तहसील अध्यक्ष लोकेश तोमर, तहसील उपाध्यक्ष संजय कुमरावत, तहसील सदस्य भगवान धनगर सहित घटवां, ठीकरी, भगवानपुरा, उमरदा, जरवाह, सेगवाल, कुआ, केरवां व आसपास के 12 गांव के किसान मौजूद थे।

विद्युत आपूर्ति फिर से यथावत करने के लिए गुहार
खेतिया. ग्राम भातकी के किसानों ने विद्युत विभाग को आवेदन सौंप विद्युत आपूर्ति फिर से यथावत करने के लिए गुहार लगाई। किसानों का कहना है कि समय परिवर्तन करने के कारण किसानों को काफी परेशनियों का सामना करना पड़ता है। खेत में जंगली जानवर के भय से रात के समय खेत में जाना संभव नहीं है। इसलिए विद्युत आपूर्ति पुराने समय पर हो। इस मौके पर किसान मोर्चा जिला उपाध्यक्ष बालकृष्ण पाटील, मनोज पाटील, प्रकाश पाटील, धनराज देसले, पंडित पंवार आदि किसान मौजूद थे।

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned