बकवाड़ी के सरपंच-सचिव पर मनरेगा में भ्रष्टाचार के आरोप

राजपुर विकासखंड के ग्राम बकवाड़ी के ग्रामीणों ने नायब तहसीलदार को आवेदन सौंपा

By: vishal yadav

Published: 17 Jun 2020, 10:47 AM IST

बड़वानी. जिले के राजपुर विकासखंड के ग्राम बकवाड़ी के ग्रामीणों ने मंगलवार दोपहर कलेक्टोरेट पहुंचकर नायब तहसीलदार दर्शिता मोयदे को आवेदन सौंपा। इसमें सरपंच, सचिव व कार्यकारी सहायक सचिव पर मनरेगा योजना में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए।
रहवासी अनिल पिता भगवान, महेश पिता तोताराम, लवकुश पिता भगवान, रोशन पिता महिमाराम आदि ने बताया कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर लॉक डाउन के दौरान केंद्र सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को आर्थिक संबल देने के लिए पंचायतों के माध्यम से मनरेगा में राशि आवंटित की है। इस दौरान विकास कार्य होने से ग्रामीणों को रोजगार मिल रहा है। वहीं ग्राम पंचायत बकवाड़ी के सरपंच सीताराम जमरे, सचिव बद्री कनासे व कार्यकारी सहायक सचिव दीपक अवासे द्वारा इसमें आर्थिक अनियतता कर गरीबों का हक खाया जा रहा है। इनके द्वारा ग्रामीणों को अंधेरे में रख बिना कार्य के श्रमिक व्यक्ति में खाता से राशि जमा व निकाल कर नल जल योजना के तहत पेयजल पाइप लाइन कार्य में 199 पाइप के बिल लगाकर राशि हड़प ली। वहीं पाइप लाइन डालने के लिए जेसीबी का बिल लगाकर 39 हजार रुपए आहरित कर लिए। जबकि यह कार्य अभी आधूरा पड़ा है। इसी तरह पीएम आवास में हितग्राहियों से नगद दस-दस हजार रुपए रिश्वत मांगी गई है। शौचालय निर्माण नहीं कर संबंधित के खाते से राशि निकाल ली। वहीं इस अपराध को छुपाने के लिए सरपंच, सचिव द्वारा ग्राम के प्रतिष्ठित लोगों के विरुद्ध थाने में झूठी रिपोर्ट कराई हैं। ज्ञापन में ग्रामीणों ने इस मामले में जांच कर भ्रष्टाचार के दोषियों पर कार्रवाई की मांग की।

vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned