जय श्रीराम के जयघोष के साथ राम भक्तों ने निकाली शोभायात्रा

श्री रामभक्तों ने निकाली शोभायात्रा, सहयोगी राशि एकत्रित करने के लिए शुरु हुआ जिला कार्यालय

By: vishal yadav

Published: 23 Dec 2020, 08:08 PM IST

बड़वानी. भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण अभियान को लेकर बुधवार को शहर में भव्य शोभायात्रा निकाली गई। इस दौरान जगह-जगह पुष्प से स्वागत हुआ। शोभायात्रा में जय श्रीराम के जयघोष से शहर के मार्ग गूंज उठे। वहीं अभियान को लेकर 25 दिसंबर को शहर में विशाल वाहन रैली का आयोजन होगा। इसमें बड़ी सं या में रामभक्त शामिल होंगे। शहर के नवलपुरा स्थित हनुमान मंदिर से पूजन अर्चन के बाद शोभायात्रा शुरु हुई। आनंद कारज भवन, कोर्ट चौराहा, कचहरी रोड, रणजीत चौक, एमजी रोड, मोटी माता चौक, रामदेव बाबा मंदिर, कालिका देवी मार्ग, कारगिल चौक, गुरु गोविंदसिंह चौक, जैन मंदिर चौराहा, रणजीत चौक होकर झंडा चौक पहुंची।
शोभायात्रा में पूज्य संत राग्वेंद्रानंद महाराज, मंदिर निर्माण समिति के जिलाध्यक्ष एस तायल, राम साखी, अशोक तिवारी, नारायण दासौंधी, अर्चना पुरोहित, सुनिता सोनी, ममता तोमर सहित समाज प्रमुख, मातृ शांति, प्रबुद्धजन और युवाजन पताकाएं थाम शामिल हुए। राग्वेन्द्रानंद महाराज ने कहा कि प्रभु श्रीराम के मंदिर निर्माण को हम हमारी आंखों से देखेंगे, ये सौभाग्य की बात है। समिति के सदस्य ने बताया कि श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण को लेकर प्रत्येक हिंदू समाज के व्यक्ति तक जाकर तन-मन-धन से सहयोग लिया जाएगा। इसलिए झंडा चौक एसबीआई शाखा के ऊपर जिला कार्यालय का शुभारंभ किया गया है। साथ ही जिला, गांव व मोहल्ला स्तर तक समितियां बनाई जाएगी।
2.7 एकड़ में बनेगा तीर्थ क्षेत्र
अयोध्या में बनने वाले श्रीराम जन्मभूमि के विशाल भवन का निर्माण करीब 40 महीनों में पूर्ण करने का लक्ष्य है। इस मंदिर का कुल क्षेत्रफल 2.7 एकड़, निर्माण क्षेत्र 57 हजार 400 वर्गफीट, कुल ऊंचाई (शिखर तक ) 161 फीट रहेगी और मंदिर जमीन के 200 फीट नीचे से बेस होगा। मकर संक्रांति से हजारों युवा हर गांव, गली मोहल्ले के सभी घरों तक जाएंगे। हर हिंदू घर तक रामजन्मभूमि मंदिर आंदोलन का इतिहास बताएंगे।
11 करोड़ परिवारों से करेंगे संपर्क
अभियान में देश भर के करीब 11 करोड़ परिवारों में 70 से 80 करोड़ लोगों से सीधे संपर्क कर श्रीराम जन्मभूमि से सीधे जोड़कर रामत्व का प्रसार करेंगे तथा देश की हर जाति, मत, पंथ संप्रदाय, क्षेत्र, भाषा के लोगों से सहयोग लिया जाएगा। इससे श्रीराम मंदिर वास्तव में एक राष्ट्र मंदिर का रूप लेगा। नवासे ने बताया कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर का पूरा निर्माण प्राचीन मंदिरों की तरह पत्थरों से होगा। इसमें सीमेंट व लोहे का प्रयोग नहीं होगा। मंदिर की लंबाई 360 फीट, चौड़ाई 235 फीट तथा ऊंचाई 161 फीट होगी। इसमें तीन तल व पांच भव्य मंडप होंगे। इसके अतिरिक्त 70 एकड़ भूमि पर संग्रहालय, प्रदर्शनी, पुस्तकालय, श्रद्धालु निवास, सभागार, बगीचे व अन्य सुविधाएं बनेगी।

Show More
vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned