बड़वानी में मूंग फसल का रकबा बढऩे के आसार, नहरों में बंद हुआ पानी

दो वर्ष से किसानों का रुझान बढ़ा, एक लाख हेक्टेयर के पार हुई हैं रबी सीजन की बोवनी

By: Amit Onker

Updated: 12 Feb 2021, 12:57 AM IST

बड़वानी. जिले में इस वर्ष ग्रीष्मकालीन फसलों में मूंग का रकबा बढऩे के आसार है। बीते सात वर्षांे के दौरान जिले में मूंग की ओर किसानों का रुझान बढऩे लगा है। खासकर जिले के पहाड़ी अंचल के किसान इस फसल को अधिक मात्रा में लगाने लगे हैं। बीते सात वर्षांे के दौरान जिले में 400 से 500 हेक्टेयर में मूंग की बोवनी हो रही है। वहीं बीते वर्ष सर्वाधिक उत्पादन रहा था।
उल्लेखनीय है कि जिले में नहरों का जाल बिछने के बाद किसानों द्वारा ग्रीष्मकालीन फसलों की बोवनी अधिक मात्रा में की जाने लगी है। हालांकि इंदिरा सागर नहर परियोजना से लाभांवित बड़वानी, राजपुर और ठीकरी क्षेत्र में मूंग की फसल की ओर किसानों का रुझान कम रहता है। इसका कारण किसान गेहूं और सब्जी उत्पादन अधिक करते हंै। बता दें कि बड़वानी और ठीकरी क्षेत्र में नर्मदा नदी का तट गुजरता है, जिससे वर्षभर किसानों को सिंचाई साधन उपलब्ध रहते हैं। वैसे जिले के पानसेमल, सेंधवा, निवाली और पहाड़ी अंचल के पाटी विकासखंड में गर्मी का मूंग अधिक मात्रा में बोया जाता है। कृषि विभाग के सूत्रों के अनुसार इस वर्ष भर जिले में साढ़े पांच सौ से अधिक हेक्टेयर में मूंग बोवनी प्रस्तावित है।
इस बार आ सकती है दिक्कत
जिले में फिलहाल इंदिरा सागर नहरों में पानी का बहाव थमने लगा है। मेंटनेंस कार्य के चलते नहरों में बीते दो-तीन दिन से पानी कम होने लगा है। ऐसे में आगामी सीजन के दौरान किसानां ंको सिंचाई समस्या झेलना पड़ सकती है।

Amit Onker
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned