script62 percent of women do not know personal hygiene | I am Shakti-Udaan Scheme: 62 प्रतिशत महिलाएं नहीं जानती पर्सनल हाइजीन | Patrika News

I am Shakti-Udaan Scheme: 62 प्रतिशत महिलाएं नहीं जानती पर्सनल हाइजीन

I am Shakti-Udaan Scheme:

- अब महिलाओं की हाइजीन पर खर्च होंगे 200 करोड़ रुपए
- आई एम शक्ति-उड़ान योजना पहुंचेगी घर-घर
- योजना के तहत सेनेटरी नैपकिन पहुंचेंगे हर महिला तक

बस्सी

Updated: December 17, 2021 09:02:20 pm

I am Shakti-Udaan Scheme:

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के अनुसार 57.6 प्रतिशत भारतीय महिला सैनिटरी पैड का उपयोग करती हैं, जबकि 62 प्रतिशत अभी भी पीरियड हाइजीन के बारे में नहीं जानती या इस पर ध्यान नहीं देती। वहीं 24 प्रतिशत किशोरियों अपने पीरियड्स के दौरान विद्यालय में अनुपस्थिति दर्ज कराती हैं। राज्य की किशोरियों और महिलाओं को अब इस हाइजीन के लिए ना सोचना पड़ेगा और ना ही पैसा खर्च करना पड़ेगा। राज्य सरकार की ओर से 200 करोड़ रुपए की ‘आई एम शक्ति- उड़ान‘ योजना शुरू की जा रही है। इस महत्वकांक्षी योजना के तहत राज्य की हर किशोरी और महिला तक निशुल्क सेनेटरी नेपकिन पहुंचाए जाएंगे। हर स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र से किशोरियों अपनी सेल्फ हाइजीन के लिए इस योजना का लाभ ले पाएंगी। महिला एवं बाल विकास विभाग को इस योजना को संचालित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
62 percent of women do not know personal hygiene
62 percent of women do not know personal hygiene
प्रथम चरण में लगभग 29 लाख को लाभ
योजना के प्रथम चरण में प्रदेश के उच्च प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च माध्यमिक राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत लगभग 26 लाख छात्राओं को लाभान्वित किया जाएगा। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में 282 ब्लॉक के 1410 चिन्हित आंगनबाड़ी केन्द्रों पर 18 से 45 आयु वर्ग की लगभग 3 लाख किशोरियों एवं महिलाओं को प्रतिमाह 12 सेनेटरी नैपकिन का निःशुल्क वितरण किया जाएगा। प्रथम चरण में लगभग 29 लाख बालिकाएं एवं महिलाएं लाभान्वित होगी। योजना के द्वितीय चरण में प्रदेश की सभी ग्राम पंचायत में 18-45 आयु वर्ग की किशोरियों एवं महिलाओं को आंगनबाड़ी केन्द्रों एवं अन्य स्थानों पर सेनेटरी नैपकिन निःशुल्क उपलब्ध करवाया जाएगा।
आरएमसीएल करेगा आपूर्ति
योजना में सेनेटरी नैपकिन राजस्थान मेडिकल सर्विस कॉर्पोरेशन लिमिटेड के द्वारा क्रय करके चिन्ह्ति आंगनबाड़ी केन्द्रों एवं विद्यालयों पर उपलब्ध करवाए जाएंगे। योजना का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं और महिलाओं को सेनेटरी नैपकिन प्रयोग के लिए जागरूक करना है। ताकि वे अपनी हाइजीन संबंधित समस्याओं से निजात पा सकें। योजना के तहत राज्यभर के स्वयं सहायता समूहों को सेनेटरी नैपकिन बनाने के लिए प्रशिक्षण, ऋण, क्रय एवं वितरण के लिए तैयार किया गया है। वहीं महिला स्वयं सहायता समूह, सामाजिक संस्थाओं एवं गैर सरकारी संगठनों को माहवारी स्वच्छता प्रबंधन में उत्कृष्ट कार्य करने पर प्रोत्साहन भी दिया जाएगा।
इनका कहना है.......
‘आई एम शक्ति- उड़ान‘ योजना कुछ ही दिनों में लॉन्च की जाएगी। यह राज्य सरकार की महत्वकांक्षी योजना है। 200 करोड़ रुपए इसके लिए आवंटित किए गए हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से योजना के तहत राज्य की हर किशोरी और महिला को सेनेटरी नेपकिन का हर महीने वितरण किया जाएगा। ताकि महिलाएं हाइजीन के अभाव में होने वाली बीमारियों से बच सकें।
ममता भूपेश, महिला एवं बाल विकास मंत्री
हाइजीन तरीकों को महिलाएं नहीं जानती हैं तो वे कई तरह की बीमारियों का शिकार हो जाती हैं। कैंसर जैसी बीमारी भी इस कारण हो सकती है। संक्रमण से संबंधित अन्य समस्याएं तो हैं ही। इसलिए जागरूकता जरूरी है।
डॉ. पुष्पा नागर, अधीक्षक, जनाना अस्पताल, चांदपोल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Army Day 2022: सेना प्रमुख MM Naravane ने दी चीन को चेतावनी, कहा- हमारे धैर्य की परीक्षा न लेंUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावUttar Pradesh Assembly Elections 2022: टूटेगी मायावती और अखिलेश की परंपरा, योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से लड़ेंगे विधानसभा चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up DayHaryana: सरकार का निर्देश, बिना वैक्सीन लगाए 15 से 18 वर्ष के बच्चों को स्कूल में नहीं मिलेगी एंट्रीUP Election: सपा RLD की दूसरी लिस्ट जारी, 7 प्रत्याशियों में किसी भी महिला को नहीं मिला टिकटजम्मू कश्मीर में Corona Weekend Lockdown की घोषणा, OPD सेवाएं भी रहेंगी बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.