एनिकट निर्माण का समय पूरा, काम नहीं

एनिकट निर्माण का समय पूरा, काम नहीं

Santosh Kumar Dhakar | Publish: Jul, 13 2018 11:25:47 PM (IST) Bassi, Jaipur, Rajasthan, India

संवेदक ने बंद किया कार्य, विभाग ने जारी किया नोटिस

पावटा/कोटपूतली. राजनोता सहित आसपास के गांवों में पानी का जल स्तर बढ़ाने व जल संग्रहण के लिए जल संसाधन विभाग ने राजनोता साबी नदी में एनिकट स्वीकृत किया था। कार्य आदेश जारी होने के बाद संवेदक ने निर्माण कार्य भी शुरू कर दिया, लेकिन समय सीमा पूरी होने के बाद भी निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया है। इतना ही नहीं संवदेक ने बिना सूचना कार्य बंद कर रखा है। इस कारण इस साल बरसात का पानी एनिकट में संग्रहण नहीं हो पाएगा। इससे लोगों में नाराजगी है। लोगों का कहना है कि यदि जल संसाधन विभाग के अधिकारी ध्यान देते तो संवेदक समय पर कार्य पूरा कर देता और बरसात का पानी एनिकट में ठहरता।

तीन माह बाद भी कार्रवाई नहीं
जल संसाधन विभाग ने एनिकट निर्माण के लिए 3 करोड़ रुपए स्वीकृत किए थे। टेण्डर प्रक्रिया के दौरान 2 करोड़ 10 लाख 84 हजार रुपए का कार्य आदेश बीकानेर के एक संवेदक के नाम जारी किया गया। टेण्डर की शर्तों के मुताबिक 17 अप्रेल 2017 को कार्य शुरू कर 16 अप्रेल 2018 को पूरा करना था, लेकिन संवेदक बीच में ही छोडक़र चला गया, लेकिन विभाग की ओर से संवेदक के खिलाफ तीन माह बाद भी कार्रवाई नहीं की गई है। विभाग ने सिर्फ नोटिस जारी कर इतिश्री कर ली।

आधा कार्य बाकी
एनिकट 200 मीटर लम्बा व 2 मीटर ऊंचा बनना है। ठेकेदार ने अभी तक एक मीटर की ऊंचाई तक ही निर्माण किया है। पिछले दिनों हुई बारिश से एनिकट में एक मीटर ऊंचाई तक पानी भी एकत्र हुआ था। ऐसे में यदि समय पर निर्माण पूरा हो जाता तो क्षेत्र का जल स्तर जरूर बढ़ता।

एक दर्जन इन गांवों में बढ़ेगा जलस्तर

यह एनिकट मण्डा पाथरेड़ी व राजनोता की सीमा पर बन रहा है। इससे ग्राम पंचायतों के अलावा आसपास के एक दर्जन गांवों को लाभ होगा। साबी नदी पाछूडाला कारौली व राजनोता का बोर्डर होने से एनिकट के लिए इस स्थान का चयन किया है। राजनोता सरपंच लालसिंह शेखावत ने बताया कि साबी नदी पर बन रहे एनिकट के बारिश के मौसम से पहले बनकर तैयार होने से लाखों लीटर पानी एकत्रित हो सकता है। इससे आसपास के गांवों में जल स्तर बढ़ता। सहायक अभियन्ता ने बताया कि बांध की ऊंचाई 2 मीटर व लम्बाई 200 मीटर होने पर इसमें 0.079 क्यूयेस्क पानी एकत्रित होगा। जल संग्रहण के बाद पानी का ओवर फ्लो बहाव भी होगा। एनिकट से राजनोता, मण्ढा व पाथरेड़ी के अलावा कैरोड़ी, कारोली, भालोजी, बसई, पाथरेड़ी, जोधपुरा, मंढा ग्राम पंचायतों के भूमिगत जल स्तर में सुधार होगा। वन क्षेत्र बढऩे से मवेशियों को पर्याप्त चारा व पानी मिल सकेगा।
इनका कहना है...

एनिकट का निर्माण कार्य बीच में बंद करने पर संवेदक को नोटिस जारी किया गया था। नोटिस के जवाब में संवदेक ने शीघ्र कार्य शुरू करने व 25 अगस्त तक एनीकट का कार्य पूरा करने की बात कही है। इस तिथि तक कार्य पूरा नहीं होने पर संवेदक के खिलाफ तय शर्तो के अनुसार जुर्माना आरोपित किया जाएगा।
यशवीर सिंह, सहायक अभियंता, जल संसाधन विभाग, शाहपुरा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned