रातभर चला ऑपरेशन, 60 प्रतिशत टिडिडयां नष्ट, फिर भी दिन में कई गांवों में किया हमला

हवा चलने से आसपास की तहसीलों में टिडिडयों के हमला जारी रहने का खतरा बरकरार

By: Satya

Published: 29 May 2020, 09:56 PM IST


शाहपुरा। हवा के रूख के साथ अलवर की तरफ से वापस आ रहे टिड्डी दलों के आक्रमण ने इलाके के किसानों की नींद उड़ा रखी है। विराटनगर व जमवारामगढ़ क्षेत्र में टिड्डियों के पड़ाव वाले चार स्थानों पर कृषि विभाग की ओर से किसानों के सहयोग से गुरूवार को रातभर चलाए ऑपरेशन में 60 फीसदी टिड्डियां नष्ट कर दी गई और शेष टिड्डियां सुबह हवा के रूख के साथ उड़ गई, लेकिन हवा का रुख बदलने से फिर से आई टिडिडयों ने कई गांवों में हमला कर दिया।

हवा चलने से अभी भी जिले की विराटनगर, जमवारामगढ़, शाहपुरा, पावटा, आमेर, कोटपूतली सहित आसपास की तहसीलों में टिड्डियों के आक्रमण का खतरा बरकरार है। कृषि अधिकारियों की माने तो अभी भी थानागाजी, अलवर की तरफ से टिडिडयां आने का खतरा मंडरा रहा है। चार स्थानों पर ऑपरेशन में नष्ट करने के बाद भी शुक्रवार दोपहर करीब 3 बजे विराटनगर के श्यामपुरा, पूरावाला, पालड़ी क्षेत्र में किसानों को टिड्डी दल आसमान की ओर उड़ता दिखाई दिया।

किसान हंसराज मीणा ने बताया कि टिड्डी दल को देखकर किसानों के माथे पर चिन्ता की लकीरें बनी हुई है। इधर, जमवारामगढ क्षेत्र के रायसर, माथासूला, बहलोड़, सामरेड कला सहित आसपास के इलाके में भी दिन में टिड्डियां उड़ती नजर आई।
-----------

दो ट्रेक्टरों से पावर स्प्रे कर नष्ट की, दिन में फिर उड़ती नजर आई

अलवर की तरफ से गुरुवार शमा को आए टिडडी दल ने विराटनगर के तालवा, बिहाजर, घाटाबहार व बेरकी में पड़ाव डाला। यहां कई पेड़-पौधों को काफी नुकसान भी पहुंचाया। बाद में मैड़ के सहायक कृषि अधिकारी अशोक कुमार चौधरी के नेतृत्व में कृषि विभाग की टीम ने किसानों के सहयोग से रातभर दो ट्रैक्टरों से क्लोरोपायरी फॉस सहित अन्य पेस्टिसाइड का पावर स्प्रे कर करीब 70 फीसदी टिडिडयों को नष्ट कर दिया।

इसके बावजूद दोपहर तीन बजे श्यामपुरा, पुरावाला व पालड़ी क्षेत्र में किसानों को टिड्डी दल आसमान में उड़ता दिखाई दिया। तालवा सरंपच भग्गाराम गुर्जर व मैड़ जीएसएस अध्यक्ष शिवदान फागणा ने बताया कि टिडडी दल के पेडों पर बैठने से फसलों का नुकसान बच गया। यहां कृषि विभाग की टीम ने गुरूवार रात 12 से सुबह 5 बजे तक ऑपरेशन चलाकर पावर स्प्रे कर टिड्डियों को नष्ट किया गया।

इसके बाद भी श्यामपुरा, पुरावाला, पालड़ी व आसपास के गांवों में टिडडी उडऩे से किसान चिंता में है। दिन में किसानों ने थाली बजाकर, साउंड कर और खेतों में धुआं कर टिड्डियों को खदेडऩे का प्रयास किया। जिस पर टिड्डी दल भामोद, कूकड़ेला की तरफ चली गई। किसान खेतों में डटे रहकर मोबाईल एक टिड्डी दल के रूख की जानकारी भी लेते रहे।

-------------
तालवा पंचायत क्षेत्र में किसानों के सहयेाग से कृषि विभाग की टीम ने रात भर दो टैक्ट्ररों से पावर स्प्रे कर टिड्डयों को नष्ट किया। टिड्डियों के आक्रमण से जंगली पेड-पौधों को नुकसान हुआ है। शुक्रवार को अलवर की तरफ से टुकड़ों में आई टिड्डियां मैड़ क्षेत्र में उड़ती दिखाई दी। क्षेत्र के किसानों को टिड्डियों के रूख पर नजर रखकर खेतों में धुंआ करने, साउंड करने, थाली व पीपे बजाने, आवाजें कर खदेडऩे सतर्क किया गया है। ----------अशोक कुमार चौधरी, सहायक कृषि अधिकारी, मैड़

----------
गुरूवार शाम को आए टिडउी दल ने जमवारामगढ़ व विराटनगर के चार गांवों में पड़ाव डाला था। जिस पर रात को किसानों के सहयोग से कृषि विभाग के अधिकारियों ने ऑपरेशन चलाकर करीब 60 प्रतिशत को नष्ट कर दिया। श्ेाष टिडिडयां उड़ गई। फिर भी हवा के रूख से वापस आने का खतरा बना हुआ है।-----सरदारमल यादव, सहायक निदेशक, कृषि विस्तार, शाहपुरा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned