ब्लाइंड मर्डर का पर्दाफाश, सट्टेबाज दोस्तों ने ही उतारा था मौत के घाट

हाथ,पैर सिर कुचल कर की थी हत्या, दो गिरफ्तार

 

Arun Sharma

December, 0411:17 PM

जयपुर कानोता. थाना क्षेत्र में छह दिन पहले कानोता बांध की पाल के पास जेडीए आवासीय योजना सूमेल में एक युवक का सिर पत्थर से बुरी तरह कुचलकर और उसके हाथ पांव की हड्डियां भी को तोड़कर हत्या करने वाले आरोपियों को कानोता पुलिस ने बुधवार को धर दबोचा। इस मामले में पुलिस ने दो आरापियों को गिरफ्तार किया है।

पहले टीम गठित की गई
अज्ञात मृतक की पहचान और हत्यारों की तलाश के लिए जयपुर पुलिस आयुक्त आनन्द श्रीवास्तव, अति. पुलिस आयुक्त प्रथम अशोक कुमार गुप्ता और पुलिस उपायुक्त जयपुर पूर्व राहुल जैन के निर्देशन में टीम गठित की गई।

टीम जुटी पहचान के प्रयास में
अज्ञात मृतक की पहचान और वारिशान की तलाश के लिए पुलिस टीम ने पम्पलेट छपवाकर सार्वजनिक स्थानों पर चिपकाए गए। आसपास के क्षेत्र के सीसीटीवी फुटेज चैक करवाए गए। मृतक की मुश्तहरी जारी करवाई। पुलिस कंट्रोल रूम और स्टेट कंट्रोल रूम के माध्यम से सभी थानों को भिजवाई गई। फिर तकनीकी माध्यम और आसूचना संकलित कर अज्ञात मृतक की पहचान और हत्यारों की तलाश की गई।

पिता ने की मृतक बेटे की पहचान
पम्पलेट के आधार पर हैड कानि. सुरेन्द्र पाल सिंह को मुखबिर से सूचना मिली कि बाबू का टीबा थाना रामगंज जयपुर निवासी असरफ उर्फ हिप्पा पुत्र अल्ताफ 27 नवंबर की शाम लगभग 7.30 बजे टीपी नगर चौराहे पर सुरेश कुमार मित्तल उर्फ सन्नू चाचा निवासी जामडोली कानोता और अशरफ उर्फ चकरी (सट्टेबाज) के साथ शराब पीते हुए देखा गया था। उसके बाद से अशरफ उर्फ हिप्पा लापता है। हप्पा का हुलिया मृतक जैसा है। इस सूचना के बाद मृतक के पिता और अन्य परिजनों को मृतक की फोटो और शव दिखाया। इस पर पिता अल्ताफ ने शिनाख्त करते हुए मृतक को अपना बेटा अशरफ बताया। फिर पोस्टमार्टम करा शव परिजनों को सौंप दिया।

फिर हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए गठित टीम ने अशरफ उर्फ चकरी और सुरेश मित्तल उर्फ सन्नू चाचा को दस्तयाब कर गहनता से पूछताछ की गई। पूछताछ में सामने आया कि दोनों सट्टे का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि मृतक अशरफ हमें ब्लैकमेल करके हर माह 5 से 7 हजार रुपए वसुलता था। आए दिन पुलिस में शिकायत कर पकड़वा देता था। हाल ही आरोपी 20 नवम्बर को सुरेश मित्तल की बेटी की शादी थी। शादी के 4-5 दिन बाद ही मृतक अशरफ ने ट्रांसपोर्ट नगर थाने में सूचना देकर सुरेश को फिर पकड़वा दिया। सुरेश ने बताया कि इस बात से मेरा दिमाग खराब हो गया और सन्नू चाचा ने अपने पार्टनर अशरफ उर्फ चकरी के साथ मिलकर अशरफ उर्फ हिप्पा को जान से मारने की योजना बनाई। 27 नंवबर को चकरी ने मृतक अशरफ को फोन करके टीपी. नगर बुलाया, वहां पर उसे शराब पिलाई। फिर दोनों ने उसे स्कूटर पर बैठाकर कचरा प्लांट सुमेल रोड पर गए। वहां फिर मृतक अशरफ को शराब पिलाई। फिर वहां से उसे नशे में धुत करके कानोता बांध के पास सुनसान एरिया में ले आए। यहां लोहे के सरिए और पत्थर से उसके सिर, चेहरे सहित शरीर के अन्य अंगों पर वार कर उसकी हत्या कर दी। उसकी पहचान मिटाने के लिए मृतक के चेहरे और सिर को बुरी तरह से पत्थर से कुचल दिया था। फिर दोनों स्कूटर लेकर वहां से फरार हो गए।

ये रहे टीम में शामिल
बस्सी एसीपी मनस्वी चौधरी, बस्सी जयपुर के नेतृत्व में कानोता थानाधिकारी नरेन्द्र खीचड़, जगदीश नारायण सउनि, कानि. देवेन्द्र कुमार, कानि. छुट्टनलाल, कानि. हरिसिंह, कानि. कालूराम पुलिस थाना कानोता के अलावा जिला उत्तर की स्पेशल टीम के हरिओम सउनि, सुरेन्द्र पाल सिंह, हैड कानि. विनित यादव, कानि. दिलबाग सिंह, कानि. नफेसिंह ने आरोपितों को धर दबोचा।

ये हैं गिरफ्तार आरोपी
अशरफ उर्फ चकरी (34) पुत्र महबूब खान निवासी म.नं. 74, मतदाता नगर पुलिस थाना टीपी, नगर जयपुर, सुरेश मित्तल उर्फ सन्नू (55) पुत्र किरोड़ीलाल निवासी प्लाट नं . 1, गोविन्द नगर, हनुमान बगीची के सामने जामडोली थाना कानोता जयपुर शामिल है। पुलिस ने बताया कि आरोपितों का अन्य थानों में अपराधिक रिकॉर्ड दर्ज है।

Arun sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned