Lock Down: गणगौर पर्व रहा फीका, महिलाओं और युवतियों ने घरों में की पूजा

इस बार नहीं निकली गणगौर की शाही सवारी

By: Satya

Published: 27 Mar 2020, 08:50 PM IST

शाहपुरा। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम को लेकर लॉक डाउन के चलते शाहपुरा सहित समूचे क्षेत्र में गणगौर का त्यौहार फीका रहा। इलाके में कहीं भी न तो ईसर-गणगौर की सवारी निकाली गई और न ही महिलाओं ने सामुहिक रूप से पूजा की और पति की लंबी आयु और घर में सुख समृद्धि की कामना की। वहीं युवतियों ने अच्छे वर की कामना की।

लॉक डाउन के चलते महिलाओं और युवतियों ने परिवार के बीच रहकर घरों में ही पारम्परिक रुप से ईसर-गणगौर की पूजा की। परम्परानुसार महिलाओं, नवविवाहिताओं और युवतियों ने आसपास से दूब व जल लाकर घरों में पूजा की और ईसर-गणगौर को पानी पिलाया। बाजार बंद रहने से इस बार सिंजारा पर्व भी औपचारिक ही रहा। घेवर व मिठाइयों की दुकानें बंद रहने से घरों में ही पकवान बनाए गए।

इस पर्व पर नवविवाहिताओं के ससुराल से आने वाले सामान भी लॉक डाउन के चलते नहीं आ सके। कई जगह महिलाओं ने कोरोना से सुरक्षा को लेकर मुंह पर मास्क लगाकर व दूर दूर बैठकर पूजा की।

इस बार नहीं निकली शाही सवारी


शाहपुरा में पिछले दो साल से निकाली जा रही गणगौर की शाही सवारी भी लॉक डाउन के चलते इस बार नहीं निकली। कस्बे में गणगौर पर्व पर पिछले दो साल से नगरपालिका और रानी रत्ना कुमारी फाउंडेशन की ओर से शाही लवाजमे के साथ शाही सवारी निकाली जाती थी।

जिसमें कई प्रदेशों का नृत्य व सांस्कृतिक कार्यक्रम आकर्षण का केन्द्र रहते थे, लेकिन इस बार शाही सवारी नहीं निकली और चौपड़ पर सामुहिक रुप से ईसर-गणगौर को पानी भी नहीं पिलाया गया।

गणगौर का पर्व मनाया

राडावास। लॉक डाउन के तहत गणगौर का त्योहार भी फीका रहा। पहले की तरह चकाचौंध व तैयार पकवान नहीं मिलने से ग्रामीण महिलाओं ने घर में ही पकवान बनाकर गणगौर की पूजा अर्चना की इस दौरान अधिकांश लोग घेवर व मिठाइयों के लिए चारों ओर भटकते रहे। कई लोगों ने तो पहले से बुकिंग तक करवा रखी थी, लेकिन लॉक डाउन के चलते बाजार बंद रहने से सारी तैयारियां धरी रह गई।

मैड़ में नहीं भरा गणगौर का मेला


मैड़। कोराना वायरस संक्रमण की रोकथाम के चलते कस्बे में कई वर्षों से गणगौरी बाजार में भरने वाला मेला इस बार नहीं भरा। जिससे नव विवाहिताओं, महिलाओं व युवतियों ने घरो में ही जाकर बिना भीड़ भाड़ किए ईसर- गणगौर की पूजा की और पानी पिलाकर अखंड सौभाग्य की कामना की। यहां हर साल गणगौर मेले में शाही लवाजमे के साथ गणगौर की सवारी निकलती थी। इस बार लॉक डाउन के चलते नहीं निकली। गणगौर पर्व पर्व पर भी गणगौरी बाजार में सुबह से ही सन्नाटा पसरा रहा और लोग घरों में ही कैद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned