Cyber Crime: मोबाइल नंबरों के आधार पर पेटीएम और अन्य वॉलेट एक्टिवेट कर लगा रहे थे चूना, 500 मोबाइल सिम व डेढ़ लाख बरामद

झांसे में लेकर बैंक खाते खाली करते थे खाली, विदेश तक नेटवर्क

By: vinod sharma

Published: 11 Apr 2021, 09:27 AM IST

सामोद (जयपुर). जयपुर ग्रामीण की सामोद थाना पुलिस ने झांसे में लेकर लोगों के बैंक खाते खाली करने वाले साइबर गिरोह का शनिवार को भंडाफोड़ करके पांच जनों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों से वोडाफोन कंपनी की 500 सिम और 1.50 लाख की नकदी बरामद की है। पुलिस ने ठगी के मामले में गिरोह के एक सदस्य को 25 दिन पहले गिरफ्तार कर चुकी है। आरोपियों का विदेशों तक साइबर क्राइम का नेटवर्क माना जा रहा है।

बैंक खाते से निकाले थे सात लाख रुपए
गोविंदगढ़ डीएसपी संदीप सारस्वत ने बताया कि सामोद थाना क्षेत्र का एक पेट्रोल पंप संचालक फरवरी, 2021 में ठगी का शिकार हुआ था। उसके बैंक खाते से सात लाख रुपए निकाले गए थे। पीडि़त पंप संचालक राजीव चौधरी ने मामला दर्ज करवाया था, जिस परमामले को गंभीरता से लेते हुए जयपुर ग्रामीण एसपी शंकरदत्त शर्मा ने आरोपितों को पकडऩे के लिए विशेष टीम का गठन कर जांच पड़ताल शुरू करवाई।

Cyber Crime: मोबाइल नंबरों के आधार पर पेटीएम और अन्य वॉलेट एक्टिवेट कर लगा रहे थे चूना, 500 मोबाइल सिम व डेढ़ लाख बरामद

गिरोह के अन्य सदस्य पकड़ से दूर थे
जांच अनुसंधान में टीम ने उत्तरप्रदेश निवासी अंकित शर्मा को 15 मार्च को उत्तरप्रदेश से गिरफ्तार किया। बाद में उसे न्यायालय ने 22 मार्च को जेल भेज दिया, लेकिन मामले में गिरोह के अन्य सदस्य पकड़ से दूर थे। पुलिस ने साइबर सैल के सहायक उपनिरीक्षक रतनदीप से तकनीकी सहयोग लेते हुए ओडिसा निवासी मनोज महापात्र, उत्तरप्रदेश निवासी पवन कुमार वर्मा, रचित वर्मा, सनी शर्मा और अलवर निवासी अखिलकुमार जाट को गिरफ्तार किया है।

यूं की थी पेट्रोल पंप संचालक से ठगी
थाना प्रभारी उमराव सिंह ने बताया कि उदयपुरिया पेट्रोल पंप के संचालक चौधरी के मोबाइल पर 6 फरवरी की रात को 2 बजे बाद एक के बाद एक 22 मैसेज आए। मैसेज के अनुसार उसके बैंक खाते से राशि कटती चली गई और आरोपियों ने खाते से 7 लाख 19 हजार रुपए की राशि दूसरे खातों में ट्रांसफर कर दी। परिवादी ने सुबह मोबाइल संभाला तो उसके होश उड़ गए, जबकि परिवादी के अनुसार उसके पास ओटीपी मैसेज जरूर आया था, लेकिन उसने शेयर नहीं किया था। इसके बावजूद खाते से रुपए निकल गए।

आरोपियों में एक कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर भी
डीएसपी सारस्वत ने बताया कि आरोपी पवनकुमार उत्तरप्रदेश में एक मोबाइल कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर है। आरोपी मोबाइल कंपनी के एक खास ऐप के जरिए इस गिरोह के लोगों को फर्जी तरीके से सिम उपलब्ध करवा रहा था। यह आरोपी मोबाइल नंबरों के आधार पर पेटीएम और अन्य वॉलेट एक्टिवेट करके लोगों को चूना लगा रहे थे।

कई मामले खुलने की संभावना
पुलिस ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। इनसे साइबर क्राइम के कई मामले खुलने की संभावना है। आंशका जताई जा रही है कि वोडाफोन कंपनी अंतरराष्ट्रीय होने से गिरोह का विदेशों तक नेटवर्क हो सकता है। इसे लेकर पुलिस सख्ती से आरोपियों से पूछताछ करने में जुटी हुई है।

पुलिस टीम में ये थे शामिल
सदस्य साइबर गिरोह को पकडऩे में डीएसपी सारस्वत, कालाडेरा थाना प्रभारी हरबेन्द्र सिंह, सामोद थाना प्रभारी उमराव सिंह, सामोद के सहायक उपनिरीक्षक आबीद अली, कालाडेरा के राजेन्द्र प्रसाद, महेंद्र, हरीश, कमलेश, अशोक, रमेश, रामस्वरूप, राजेन्द्र बाजिया, महेंद्र कुमार टीम में शामिल थे।

Paytm CEO
vinod sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned