scriptDemand to bring water of Yamuna river to Jaipur, Rajasthan | जयपुर जिले में यमुना नदी का पानी लाएं तो बदल सकती है तस्वीर | Patrika News

जयपुर जिले में यमुना नदी का पानी लाएं तो बदल सकती है तस्वीर


यमुना नदी का जल लाने की मांग को लेकर राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन


यमुना नदी जल लाओ संघर्ष समिति के लोगों ने दिया ज्ञापन

बस्सी

Updated: May 27, 2022 10:25:04 pm


Demand to bring water of Yamuna river to Jaipur, Rajasthan शाहपुरा। शाहपुरा व विराटनगर सहित जयपुर ग्रामीण इलाके में भूमिगत जल स्तर गहराने से जल संकट गहराता जा रहा है। ऐसे में यमुना नदी के ओवरफ्लो पानी को राजस्थान में लाने की मांग जोर पकड़ती जा रही है। यमुना नदी का पानी शाहपुरा व आसपास के इलाके में लाने की मांग को लेकर शुक्रवार को यमुना नदी लाओ जल संघर्ष समिति की ओर से राष्ट्रपति के नाम उपखण्ड कार्यालय शाहपुरा में ज्ञापन सौंपा गया।
जयपुर जिले में यमुना नदी का पानी लाएं तो बदल सकती है तस्वीर
जयपुर जिले में यमुना नदी का पानी लाएं तो बदल सकती है तस्वीर
इस दौरान यमुना नदी जल लाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष परमानन्द पलसानिया के नेतृत्व में समिति के लोगों ने एसडीएम के प्रतिनिधि को ज्ञापन दिया और इलाके को नदी से जोडऩे की मांग की। ताकि क्षेत्र फिर से खुशहाल हो सके। इस अवसर पर संषर्घ समिति के प्रवक्ता रामलाल जाट, संरक्षक मोहनलाल सैनी, खेमचंद यादव, सचिव गोपीराम ढबास, भागीरथ गठाला, केदार मल टांक, प्रभूदयाल बुनकर, खेमचंद रेंजर, रामसिंह लील, सुरजभान पलसानिया, लक्ष्मण पुनिया, सुशील कुमार शर्मा, छाजूराम सैनी, दामोदर, पुरणमल, अमन शर्मा, अमरचंद कपूरिया सहित क्षेत्रवासियों ने कहा कि बारिश की कमी से इलाका रेगिस्तान की तरह से सूखा पड़ा है।
जयपुर की लाइफ लाइन जमवारामगढ़ बांध, शाहपुरा क्षेत्र का जवानपुरा धाबाई बांध, जमदेई बांध, पावटा का बूचारा बांध सहित इलाके के बांध वर्षों से सूखे पड़े हैं। क्षेत्र में पीने के लिए पानी का भी संकट उत्पन्न होता जा रहा है। सिंचाई के लिए पानी के अभाव में शाहपुरा में तो खेती लगभग बंद हो गई है। ऐसे में दिनोंदिन हालात विकट होते जा रहे हैं। यहीं हाल विराटनगर, पावटा, कोटपूतली, जमवारामगढ़, आमेर सहित आसपास की तहसीलों के हैं।
इसलिए जयपुर ग्रामीण क्षेत्र की उक्त तहसीलों के बाशिन्दों की मांग है कि सरकार नांगल चौधरी हरियाणा से लिफ्ट नहर के जरिए 55 किमी गढ़टकनेत सीकर तक यमुना नदी का पानी ला सकती है। इसके बाद गढ़टकनेत इलाके का सबसे ऊंचा पॉइंट होने से नदियों के प्राकृतिक बहाव के जरिये कम बजट में ही राजस्थान के जयपुर ग्रामीण इलाके में यमुना नदी का पानी लाया जा सकता है। इससे क्षेत्र की पेयजल के साथ ही सिंचाई की समस्या भी दूर हो सकती है और क्षेत्र फिर से खुशहाल हो सकता है। बांधों तक पानी पहुंचने से क्षेत्र का जल स्तर भी बढ़ेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.