यहां तीन महीने से पेयजल संकट

जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान, पेयजल समस्या से जूझ रहा डाहर गांव, ऐसे में ग्रामीणों को पेयजल के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है

By: Gourishankar Jodha

Published: 14 Oct 2020, 12:01 AM IST

बाड़ापदमपुरा। क्षेत्र के नवसृवजित ग्राम पंचायत डाहर गांव के ग्रामीण पिछले तीन महीने से पेयजल समस्या से जूझ रहे हैं।
यहां तीन महीने से पेयजल संकट गहराया हुआ है। इसे लेकर ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम पंचायत के जिम्मेदार अधिकारियों को अवगत कराने के बाद भी वे समस्या को अनदेखा कर रहे हैं। ऐसे में ग्रामीणों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। पेयजल समस्या को लेकर ग्राम विकास अधिकारी, विकास अधिकारी मुंह फेर रखे हैं। ऐसे में ग्रामीणों को पेयजल के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है।

मोटर में खराबी, नहीं हो रही ठीक...
गांव डाहर के ग्रामीण ने बताया कि पिछले तीन महीने से पेयजल टंकी में पानी सप्लाई के लिए कुएं में लगी मोटर खराब पड़ी है, जो ग्राम पंचायत द्वारा सही नहीं करवाई गई है। ऐसे में टंकी सूखी पड़ी है। 30 घरों के लिए बनी परेशानी डाहर गांव में करीब 30 घरों की आबादी है, जो इन दिनों पेयजल किल्लत से जूझ रही है। लोगों ने बताया कि पानी के लिए दूर-दराज के कुएं या हैंडपंप से पानी लाना पड़ रहा है।

इनका कहना हैं
कुएं की मोटर को सही करा दिया गया। लेकिन चाकसू पंचायत समिति द्वारा मिस्त्री को भुगतान नहीं किया जा रहा है।
किशनलाल धानका, ग्राम विकास अधिकारी, बल्लुपुरा

जल्द मोटर सहीं कराएंगे
विकास अधिकारी ने मोटर सही नहीं करवाई है। बात कर जल्दी ही मोटर सही करवाकर पेयजल की समस्या को दुरुस्त किया जाएगा।
राजबाला मीना, विकास अधिकारी चाकसू

Show More
Gourishankar Jodha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned