कोरोना का डर, मरीज बढे, चिकित्सक नहीं मिलें

ग्रामीणों ने जताया आक्रोश, किया विरोध प्रदर्शन

अजीतगढ़ के सरकारी अस्पताल में ओपीडी 1 हजार पार

By: Surendra

Updated: 19 Mar 2020, 11:39 PM IST

अजीतगढ़/गढ़टकनेत. कस्बे के बाबा नारायणदास राजकीय सामान्य चिकित्सालय में व्याप्त अव्यवस्थाओं के चलते मरीजों को आवश्यक चिकित्सा सुविधाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। इन दिनों देश में कोरोना वायरस कहर जारी है, वहीं यहां अस्पताल में चिकित्सकों की लेटलतीफी मरीजों पर भारी पड़ रही है। गुरुवार को अस्पताल में ओपीडी के समय में चिकित्सक नहीं मिलने और अव्यवस्थाओं को लेकर मरीजों व ग्रामीणों का आक्रोश फूट पड़ा। आक्रोशित लोगों ने करीब एक घंटे तक विरोध प्रदर्शन किया। बाद में पीएमओ के आश्वासन के बाद लोग शांत हुए।

जानकारी के अनुसार कस्बा स्थित बाबा नारायण दास राजकीय चिकित्सालय 100 बेड का होने से आसपास के दर्जनों गांवों के बडी संख्या में मरीज उपचार के लिए यहीं आते है, लेकिन अस्पताल में ओपीडी समय में कई चिकित्सक नदारद रहने से मरीजों को परेशानी होती है। कई बार तो मरीजों को चिकित्सकों का काफी इंतजार करना पड़ता है। गुरुवार को सुबह 10.45 तक अस्पताल की ओपीडी में मात्र दो -तीन चिकित्सक ही मरीजों की जांच करते मिले। जबकि मौसमी बीमारियों और कोरोना के डर से ओपीडी 1 हजार पार पहुंच चुकी है। अस्पताल में 13 में से मात्र 3 चिकित्सक ही उपचार करते मिले। इनमें भी एक दंत चिकित्सक था। चिकित्सक नहीं मिलने पर लोगों का आक्रोश फूट पड़ा। आक्रोशित लोगों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान लोगों ने पीएमओ को जमकर खरी खोटी सुनाई। पूर्व सरपंच बाबू लाल कुमावत, लल्लू स्वामी सहित कई लोगों ने आरोप लगाया की अस्पताल में आए दिन ऐसे ही हालत बने रहते हैं। लोगों ने मामले से स्थानीय विधायक व चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को अवगत कराया। बाद में दो -तीन चिकित्सकों और आने व पीएमओ के व्यवस्थाओं में सुधार के आश्वासन के बाद लोग शांत हुए।

जिला कलक्टर को भेजा ज्ञापन

अव्यवस्थाओं को दूर करने की मांग को लेकर भारत की जनवादी नौजवान सभा के जिला उपाध्यक्ष अनिल यादव के नेतृत्व में लोगों ने जिला कलक्टर को ज्ञापन भेज कर कार्रवाई की मांग की। ज्ञापन में अस्पताल में पर्याप्त चिकित्सक लगाने, कोरोना व मौसमी बीमारियों को देखते हुए चिकित्सकों का मुख्यालय पर ठहराव कराने, अस्पताल की ओपीडी को देखते हुए दवा वितरण काउंटर व पर्ची काउंटर बढ़ाने, वर्षों से मेडिकल रिलीफ सोसायटी की बैठक नहीं हुई, इसलिए जल्द ही बैठक कराई जाने, ऑपरेशन थियेटर में पर्याप्त उपकरण की व्यवस्था करने की मांग की है।

इनका कहना है

अस्पताल में चिकित्सकों की लापरवाही व मरीजों के उपचार में किसी प्रकार की कोताही स्वीकार नहीं होगी। मामले की जानकारी लेकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

दीपेन्द्र सिंह शेखावत, विधायक, श्रीमाधोपुर

अस्पताल में कुछ चिकित्सक डे ऑफ पर, एक चिकित्सक शिविर में, दो चिकित्सक इवनिंग व नाइट ड्यूटी में थे। वह स्वंय ऑपरेशन थियेटर में थे। लोगों का आरोप गलत है। अस्पताल में अन्य कोई अव्यवस्था को शीघ्र दूर किया जाएगा।

डॉ. ओ. पी. वर्मा, पीएमओ

बाबा नारायणदास राजकीय चिकित्सालय, अजीतगढ़

Surendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned