scriptFlyover was lying incomplete at Delhi Tiraha in Shahpura | एनएचएआई ने 10 वर्ष बाद ली अधूरे फ्लाईओवर की सुध, निर्माण कार्य शुरू | Patrika News

एनएचएआई ने 10 वर्ष बाद ली अधूरे फ्लाईओवर की सुध, निर्माण कार्य शुरू


-फ्लाईओवर बनने से दुर्घटनाओं में आएगी कमी

 

एक माह धरना-अनशन व पोस्टकार्ड अभियान भी चलाए गए

बस्सी

Published: November 19, 2021 10:17:38 pm


शाहपुरा।

शाहपुरा सहित अन्य जगह अधूरे निर्माणों के चलते हादसों का हाइवे बने प्रदेश के सबसे व्यस्ततम जयपुर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर अधूरे निर्माण की आखिकार राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण व हाइवे निर्माण कंपनी ने सुध ले ली है। एनएचएआई व राजमार्ग निर्माण कंपनी ने नेशनल हाइवे पर शाहपुरा में दिल्ली तिराहे पर करीब 10 साल से अधूरे पड़े फ्लाईओवर की सुध लेकर वर्षों बाद एक बार फिर से निर्माण कार्य शुरू किया गया। यहां अधूरे फ्लाईओवर का निर्माण कार्य शुरू होने से क्षेत्र के लोगों में खुशी की लहर है।
एनएचएआई ने 10 वर्ष बाद ली अधूरे फ्लाईओवर की सुध, निर्माण कार्य शुरू
एनएचएआई ने 10 वर्ष बाद ली अधूरे फ्लाईओवर की सुध, निर्माण कार्य शुरू
इस फ्लाईओवर के पूर्ण होने के बाद न केवल दुर्घटनाओं पर रोक लगेगी, बल्कि वाहन चालकों की यात्रा भी सुगम होगी। इस अधूरे फ्लाइओवर के चलते अब तक यहां सडक़ दुर्घटनाओं में कई लोग जान गवां चुके हैं। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद दुर्घटनाओं पर अंकुश लगेगा। निर्माण कंपनी की ओर यहां निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। कंपनी अधिकारियों के मुताबिक यहां पिलरिंग, साइड की दीवार, मिट्टी डालकर रोलिंग, छत आदि का निर्माण होगा। इस निर्माण कार्य में करीब 6 से 7 माह का समय लगेंगे।
2012 में पूर्ण करना था सिक्सलेन का निर्माण कार्य

जयपुर से दिल्ली की दूरी कम करने व यहां से गुजरने वाले यात्रियों का सफर सुगम बनाने के लिए वर्ष 2009 में जयपुर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर फोर लेन से सिक्स लेन में परिवर्तित करने का निर्माण कार्य शुरू किया था। फोर लेन से सिक्स लेन में परिवर्तित करने का कार्य निर्माण कंपनी 2012 में पूर्ण करना था, लेकिन जमीन अवाप्ति, पैसों की कमी समेत कई बाधाओं के चलते सिक्स लेन निर्माण कार्य कछुआ चाल से चलता रहा और निर्धारित समय पर पूर्ण नहीं हो पाया था।
हादसों में कई लोगों की जिन्दगी जा चुकी

शाहपुरा में दिल्ली तिराहे पर आबादी क्षेत्र में फ्लाईओवर का निर्माण कार्य भी उसी दौरान शुरू किया गया था। यहां जयपुर से दिल्ली की तरफ जाने वाली सडक़ मार्ग पर एक साइड में तो फ्लाईओवर का निर्माण कार्य करवा दिया गया, लेकिन दूसरी साइड में दिल्ली से जयपुर जाने वाली सडक़ पर पिलर के लिए मात्र गड्ढे खोदकर छोड दिए थे। इसके बाद यहां निर्माण कार्य बंद हो गया था।
ऐसे में दिल्ली से आने वाला ट्रैफिक पिछले करीब 10 साल से सर्विस रोड पर संचालित हो रहा है। इसके चलते यहां आए दिन जाम की स्थिति बनी रहती है और आए दिन दुर्घटनाएं होती है। जिनमे कई लोग अकाल मौत के मुहं में चले गए तथा कई घायल हो गए। फ्लाईओवर के लिए खोदे गए गडढों में कई बार पशु भी गिर चुके है।
राजस्थान पत्रिका ने चलाया था अभियान

नेशनल हाइवे पर अधूरे निर्माणों व खामियों से हजारों लोगों की आबादी और यात्रियों को हो रही समस्या को देखते हुए राजस्थान पत्रिका ने पिछले वर्षों में कई बार अभियान चलाया है। पिछले विधानसभा व लोकसभा चुनाव के दौरान भी प्रमुखता से खबरें प्रकाशित कर जनहित का यह मुददा उठाया था। इसके बाद अब जाकर शाहपुरा में अधूरे फ्लाइओवर की सुध ली है। इसको लेकर स्थानीय लोगों में खुशी के साथ उम्मीद जगी है कि इस बार कोई व्यवधान नहीं आएगा और फ्लाईओवर पूर्ण हो जाएगा।
एक माह धरना-अनशन व पोस्टकार्ड अभियान भी चलाए गए

शाहपुरा के दिल्ली तिराहे पर अधूरे फ्लाईओवर के निर्माण को पूरा करने की मांग को लेकर शाहपुरा की सामाजिक संस्था रणवीर सेवा समिति के तत्वावधान में कार्यकर्ताओं व कस्बे के लोगों ने कोरोना काल से पहले एक माह तक उपखण्ड कार्यालय के सामने धरना-प्रदर्शन व अनशन भी किया था। तब भी एनएचएआई के अधिकारियों ने आश्वासन देकर अनशन व धरना समाप्त करवाया था।
साथ ही शाहपुरा की जयश्रीराम सेवा समिति ने भी पोस्टकार्ड अभियान चलाया था। इसके अलावा क्षेत्रीय सांसद कर्नल राज्यवर्धन सिंह व विधायक आलोक बेनीवाल ने केंद्रीय मंत्री को पत्र लिखकर निर्माण कार्य शुरू करवाने का आग्रह भी किया था। सांसद ने कई बार केन्द्रीय मंत्री से मुलाकात कर अवगत भी कराया था।
जान हथेली पर लेकर सडक़ पार करते हैं ग्रामीण
शाहपुरा के दिल्ली तिराहे पर अधूरा पड़ा फ्लाईओवर न केवल वाहन चालकों के लिए बल्कि स्थानीय ग्रामीणों के लिए भी परेशानी का सबब बना हुआ था। यहां देवन तिराहे पर अंडरपास भी अधूरा पड़ा है। जिसे भी बेरिकेड्स लगाकर बंद कर रखा है। यहां से देवन, कांट, लेटकाबास, बडोदिया समेत दर्जनों गांव-ढाणियों के बडी संख्या में लोग आवागमन करते है।
इसके अलावा शहर की चारदीवारी में किसी की मौत हो जाने पर शवयात्रा भी यहां से होकर गुजरती है। ऐसे में उन्हें सडक पार करने में काफी परेशानी होती है। इन दर्जनों गांव- ढाणियों के ग्रामीणों व वाहन चालकों को शहर में जाने के लिए जयपुर तिराहा या दिल्ली तिराहे से होकर जाना पड़ता है। ऐसे में सर्विस रोड पर यातायात दबाव अधिक होने से हमेशा दुर्घटना की आशंका रहती है। अब निर्माण पूरा होने के बाद जनता को राहत मिलेगी।
----------------
जयपुर दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर शाहपुरा में दिल्ली तिराहा स्थित अधूरे फ्लाइओवर का निर्माण कार्य शुरू किया गया है। निर्माण कार्य पूरा होने में कारीब 6 से 7 माह का समय लगेगा।----एस एम नायडू, प्रोजेक्ट मैनेजर, पीसीईपीएल, निर्माण कंपनी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.