scriptKargil Vijay Diwas: soldier doing social service after losing his leg | कारगिल विजय दिवस: कारगिल युद्ध में पांव गंवाने वाला योद्धा अब सैनिकों व शहीदों के परिजनों के हित में कर रहा कार्य, पढिय़े पूरी खबर | Patrika News

कारगिल विजय दिवस: कारगिल युद्ध में पांव गंवाने वाला योद्धा अब सैनिकों व शहीदों के परिजनों के हित में कर रहा कार्य, पढिय़े पूरी खबर


कारगिल सैनिक रामसहाय बाज्या बोले, पांव गंवाने का गम नहीं, देश के लिए बलिदान देना हर किसी के नसीब में नहीं होता

बस्सी

Published: July 26, 2022 10:40:55 pm

Kargil soldier doing social service after losing his leg in Kargil warकारगिल सैनिक रामसहाय बाजिया कारगिल युद्ध में पैर गंवाने के बाद से सैनिकों, पूर्व सैनिकों और शहीदों के परिजनों के हित में कर रहे कार्य
कारगिल विजय दिवस: कारगिल युद्ध में पांव गंवाने वाला योद्धा अब सैनिकों व शहीदों के परिजनों के हित में कर रहा कार्य, पढिय़े पूरी खबर
कारगिल विजय दिवस: कारगिल युद्ध में पांव गंवाने वाला योद्धा अब सैनिकों व शहीदों के परिजनों के हित में कर रहा कार्य, पढिय़े पूरी खबर
शाहपुरा। भारतीय सेना ने 23 साल पहले कारगिल युद्ध में भारत की सीमा में घुसे दुश्मन को मुंह तोड़ जवाब देकर ऐसा सबक सिखाया था कि यह दिन हमेंशा याद रहेगा। कारगिल युद्ध में भारतीय सेना के वीर जवानों ने पाक सैनिकों को बुरी तरह से धूल चटाई थी। इस युद्ध में बहुत से सैनिक मातृभूमि की रक्षा करते हंसते- हंसते वीरगति को प्राप्त हो गए। 26 जुलाई 1999 के दिन भारतीय सेना ने ऑपरेशन विजय को सफलतापूर्वक अंजाम देकर घुसपैठियों के चंगुल से भारत भूमि को मुक्त कराया था।
कारगिल युद्ध में बलिदान देने वाले देश के वीर शहीदों के सम्मान में यह दिवस विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। इससे पहले 1965 और 1971 में भी देश के वीर जवानों ने पाकिस्तान को उसी के घर में घुसकर मारा था। यह कहना है पूर्व कारगिल सैनिक व राज्य स्तरीय सैनिक कल्याण सलाहकार समिति के उपाध्यक्ष रामसहाय बाजिया का।
कारगिल सैनिक बाजिया ने कारगिल युद्ध में अपना एक पैर गवां दिया था। अपने बुलंद हौसलों के चलते वे सेना में रहते हुए वीरता पुरस्कारों से भी नवाजे गए। कारगिल विजय दिवस के मौके पर राजस्थान पत्रिका से बातचीत के दौरान बाजिया ने कहा कि उनको एक पैर गंवाने का कोई गम नहीं। देश के लिए बलिदान देना हर किसी के नसीब में नहीं होता। सेना में रहकर देश की सेवा करने के बाद बाजिया ने 2012 में प्रदेश भूतपूर्व सैनिक कल्याण समिति बनाकर सैनिकों, पूर्व सैनिकों और शहीदों के परिजनों के हित में कार्य करना शुरू किया जो आज भी निरंतर जारी है। सैनिकों के प्रति उनकी सेवा भावना को देखते हुए पिछले दिनों गहलोत सरकार ने उनको राज्य स्तरीय सैनिक कल्याण सलाहकार समिति का उपाध्यक्ष बनाया है।

बचपन से ही थी सेना में जाकर देश सेवा करने इच्छा


जयपुर जिले के बडनगर कोटपूतली निवासी कारगिल सैनिक रामसहाय बाजिया का जन्म 28 जुलाई 1976 को किसान परिवार में हुआ। उनके पिता प्रभाती लाल किसान थे। किसान के बेटे रामसहाय की बचपन से ही सेना में जाकर देश की सेवा करने की इच्छा थी। इसके लिए उन्होंने जमकर मेहनत की। जिस पर 20 वर्ष की आयु में 1996 में भारतीय सेना में राजपूताना राइफल की 2 बटालियन में चयन हो गया।
देश के लिए बलिदान देना हर किसी के नसीब में नहीं होता

बाजिया के सेना में भर्ती होने के 3 साल बाद ही वर्ष 1999 में कारगिल का युद्ध छिड़ गया। जिसमें राम सहाय बाजिया ने दुश्मनों से लोहा लेते हुए कई सैनिकों को धूल चटाई, लेकिन पैर में गोली लगने से वे लम्बे समय तक अस्पताल में रहे और एक पैर गंवाना पड़ा। पूर्व सैनिक बाजिया का कहना है कि युद्ध में एक पांव गवाने का कोई गम नहीं है। हर सैनिक का सपना होता है कि उसे भारत माता का ऋण चुकाने का अवसर मिले। देश के लिए बलिदान देना हर किसी के नसीब में नहीं होता।
युद्ध में पैर गंवाने के बाद से कर रहे सैनिकों के हित में काम


कारगिल सैनिक रामसहाय बाजिया ने कारगिल युद्ध में अपना एक पैर गंवाने के बाद 2012 में सैनिकों के हित में कार्य करना शुरू कर दिया। वे प्रदेश भूतपूर्व सैनिक कल्याण समिति के माध्यम से सैनिकों, पूर्व सैनिकों, शहीदों के परिजनों के हित में निरंतर करते आ रहे हैं। समिति के प्रदेशाध्यक्ष बाजिया समिति के माध्यम से सैनिकों के हित में सरकार को सुझाव देना, पूर्व सैनिकों, उनके परिवारों और शहीदों के परिजनों की समस्याओं निदान कराना, उनके मान सम्मान में प्रदेशभर में कार्यक्रम आयोजित करना सहित विभिन्न कार्य करते आ रहे हैं।
शाहपुरा को जिला बनाने के लिए भी किया संघर्ष

कारगिल सैनिक बाजिया ने शाहपुरा जिला बनाओ संषर्घ समिति का गठन कर शाहपुरा को जिला बनवाने के लिए भी लम्बे समय तक संषर्घ किया। संषर्घ समिति अध्यक्ष बाजिया के नेतृत्व में शाहपुरा को जिला बनाने की मांग को लेकर शाहपुरा में लम्बे समय पर धरना दिया गया। जिले की मांग को लेकर उनका संषर्घ आज भी जारी है।
नई जिम्मेदारी के निर्वहन के साथ सैनिकों के हित में कार्य करता रहूंगा


कारगिल सैनिक बाजिया को सरकार द्वारा राज्य स्तरीय सैनिक कल्याण सलाहकार समिति का उपाध्यक्ष बनाए जाने पर उनकी जिम्मेदारी बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि सैनिक के रूप में देश की सेवा करने के बाद 2012 से वे निरंतर सैनिकों के हित में कार्य करते आ रहे हैं और अब नई जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए आगे भी सैनिकों के हित में निंरतर सेवा करते रहेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

सुशील कुमार मोदी का नीतीश सरकार पर हमला, कहा - 'लालू के दामाद और कार्यकर्ता चला रहे सरकार, नीतीश लाचार'ड‍िप्‍टी सीएम मनीष स‍िसोद‍िया के यहां CBI की रेड के बाद LG का बड़ा आदेश, 12 IAS अफसरों का ट्रांसफरमनीष सिसोदिया के घर समेत 31 जगहों पर रेड, 17 अगस्त को ही दर्ज हुई थी FIR, CBI ने जारी की पूरी डीटेलउपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर CBI की छापेमारी के बाद आम आदमी पार्टी ने किया ऐलान - '2024 में मोदी Vs केजरीवाल'Kerala News: मुस्लिम लीग के महासचिव का विवादित बयान, बोले- 'लड़के-लड़कियों का स्कूल में साथ बैठना खतरनाक'CBI Raids Manish Sisodia House Live Updates: बीजेपी की बौखलाहट ने देश को ये संदेश दिया है कि 2024 का चुनाव AAP v/s BJP होगा- संजय सिंहबंगाल, महाराष्ट्र में भी ED के छापे, उनके सामने तो मैं तिनका हूँ, 'सांसद अफजाल अंसारी ने दी चुनौती- पूर्वांचल हमारा ही रहेगा'Mumbai News: दही हांड़ी फोड़ने पर 55 लाख से लेकर स्पेन जाने सहित मिल रहे हैं ये खास ऑफर; पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.