कोटपूतली नगरपालिका मामला मंत्री तक पहुंचा, कोटपूतली से 5 तीर्थों के लिए सीधी बस सेवा होगी शुरू

गबन के आरोपों के बीच तनातनी

 

By: Surendra

Published: 19 Mar 2020, 12:00 AM IST

कोटपूतली. पालिका में पिछले चार वर्षों से हो रहे कथित भ्रष्टाचार व गड़बडिय़ों के मामले पर क्षेत्रीय विधायक व राज्यमंत्री राजेंद्रसिंह यादव ने कहा कि बोर्ड अध्यक्ष के प्रस्तावों पर हस्ताक्षर नहीं करने से समस्याओं का समाधान नहीं हो रहा है। राज्यमंत्री ने यहां कांग्रेस कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इटली जोहड़ में पानी निकासी के प्रस्ताव सरकार को नहीं भेजे गए। मुय मार्ग पर से रेहड़ी हटाने के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि इसके लिए कार्य योजना तैयार कर इनको पुल के नीचे स्थानांतरित किया जाएगा। उन्होंने आमजन से जुड़े कार्यों की अनदेखी करने व पालिका ईओ को संरक्षण प्रदान करने व पालिका कार्योंं में हस्तक्षेप के सवाल पर कहा कि उनका पालिका कार्यों में कोई हस्तक्षेप नहीं है। कस्बे के विकास के लिए जो भी प्रस्ताव तैयार होंगे उनमें उनकी सहमति रहेगी। पिछले वर्ष फरवरी में पालिका की बजट बैठक में उन्होंने कस्बे में पानी की निकासी के लिए सभी जरूरी नालों के निर्माण के प्रस्ताव पारित कर कार्य योजना बनाने को कहा था, लेकिन उन्होंने नाला निर्माण कराने के बजाय नियम विरूद्ध 18 करोड़ रुपए का स्ट्रीट लाइट का सामान क्रय कर उसका भुगतान भी कर दिया, जिसकी विभागीय जांच जारी है। यादव ने आरोप लगाया कि भाजपा बोर्ड पिछले चार साल के कार्यकाल में सफाई, रोशनी, नाला निर्माण सहित अन्य कार्यों में करोड़ों रुपयों का भ्रष्टाचार हुआ है, जिसकी जांच जारी है।

इन मामलों का किया खुलासा

राज्यमंत्री ने दस्तावेज पेश करते हुए कहा कि फर्जी टैंडर ऑनलाईन करने में तत्कालीन पालिका जेईएन रविता कुमारी ने 12 सितंबर 2017 को एफआईआर दर्ज करवाई थी। जिसमें पट्टो, सुरक्षा गार्डों, बागवान, वाहन चालक व बिजली सामान के ठेकों में पाई गई अनियमितता के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि श्मशान भूमि के पट्टे काटकर पत्रावली को अपने साथ ले गए जिसकी जांच पुलिस थाने व एसीडी में लबित है। इस मौके पूर्व पालिका अध्यक्ष प्रकाश चंद सैनी, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष छीतरमल सैनी भी मौजूद रहे।

अक्ष्य पात्र से जुड़ेगा मिड-डे मील

राज्य मंत्री ने कहा कि पिछले दो बजट में क्षेत्र को कृषि महाविद्यालय, जिला स्तरीय अस्पताल, कोटपूतली-नारेहड़ा बायपास की सौगात मिली है। क्षेत्र की लबित मांगे भी कांग्रेस के इसी शासन में पूरी होगी। उन्होंने बताया कि कोटपूतली से गोर्वधन, मथुरा, वृन्दावन, गढगंगा व वैष्णो देवी के लिए सीधी बस सेवा शुरू की जाएगी। इसके अलावा स्कूली बच्चों को हाइजेनिक मिड-डे मिल उपलब्ध करवाने के लिए अक्ष्य पात्र योजना से जोड़ा जाएगा। इसके तहत क्षेत्र के सभी 22 हजार बालकों का मिड डे मील का भोजन अक्ष्य पात्र की रसोई में तैयार होगा। विद्युत आपूर्ति में सुधार के लिए इनर सर्किट की व्यवस्था की जाएगी। पेयजल आपूर्ति के लिए दो नए जलाशयों का निर्माण कराया गया है।


चेयरमैन-ईओ में तनानी, सामूहिक इस्तीफे की पेश

कोटपूतली. नगरपालिका कार्यालय में बुधवार को माहौल तब गहमागहमी का हो गया, जब चेयरमैन और अधिशासी आमने सामने हो गए और एक-दूसरे पर काम ना करने के आरोप लगाने लगे। अधिशासी अधिकारी विशाल यादव और सफ ाई निरीक्षक कुलदीप ने आरोप लगाया की चेयरमैन महेंद्र सैनी और पूर्व चेयरौन शंकरलाल सैनी ने उनसे मारपीट करने की कोशिश की। जबकि चेयरमैन और वहां मौजूद पार्षदों ने इसका खडंन किया।

मामले की शुरुआत नगरपालिका चेयरमैन द्वारा कर्मचारियों को अपने कक्ष में बुलाने से हुई। जब चेयरमैन ने कर्मचारियों को अपने कक्ष में बुलाने की बात की तो ईओ ने कर्मचारियों को चेयरमैन के कक्ष में जाने से मना कर दिया। चेयरमैन के बुलावे पर नहीं आने पर चेयरमैन और दर्जनभर पार्षद अधिशासी अधिकारी के कक्ष में आ गए और कारण पूछा। ईओ ने चेयरमैन कर्मचारियों पर अनावश्यक दबाव बना रहें है।

नोंकझोंक में बात इस्तीफा देने तक आ गई। पार्षद बंटी ने कहा आप काम नहीं करना चाहते तो इस्तीफा दे दो। पालिका चलाने में सक्षम हो तो हम सब सामूहिक इस्तीफा दे देते हैं। इस पर अधिशासी अधिकारी ने कहा की उनके पद पर रहने का निर्णय सरकार द्वारा लिया जाता है। इसमें वह कुछ नहीं कर सकते हैं। ऐसे जनता के सामने दोहरा संकट बना हुआ है। किसके पास कार्य के लिए जाए।

Surendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned