Lockdown 2.0 : एसडीएम पत्नी हर दिन करती ये काम

लॉकडाउन शुरू होने पर दिहाड़ी मजदूरों की स्थिति को देखकर उनकी सहायता के लिए एसडीएम की पत्नी ने शुरू किया यह काम, बनी जरूरतमंदों की मददगार

By: Gourishankar Jodha

Updated: 18 Apr 2020, 06:31 PM IST

चाकसू। कोरोना संक्रमण चल रहा है, इस आपदा में जहां हर कोई अलग-अलग रूप में जरुरतमंदों की मदद करने के लिए हर दम तैयार है। ऐसे में चाकसू उपखंड अधिकारी ओमप्रकाश सहारण जिम्मेदारी से क्षेत्र में प्रशासनिक कार्य को अंजाम दे रहे है। वहीं उनकी पत्नी विकास सहारण भी इस आपदा में प्रतिदिन 100 पैकेट खाने के पैक कर भूखे लोगों तक पहुंचा कर जरूरमंदों की मदद कर रही है। लॉकडाउन शुरू होने पर दिहाड़ी मजदूरों की स्थिति को देखकर उनकी सहायता के लिए एसडीएम की पत्नी ने यह शुरूआत की है। जो लॉकडाउन समाप्त होने तक जारी रहेगी।

घर के काम के बाद जरूरतमंदों की मदद
जानकारी के अनुसार उनकी पत्नी सुबह 4 बजे से रसोई में लग जाती है, जिसमें उनका सहयोग उनकी दो बेटियां पूर्वा व नव्या भी करती है। विकास सहारण स्वयं खाना बनाती है और फिर घर के सदस्य मिलकर उनको पैक करते है। कभी कभार इस कार्य में उपखंड अधिकारी भी सहयोग करते है। पूरे कार्य मे करीब 5 घंटे लग जाते है। सुबह करीब 9 बजे एसडीएम इन खाने के पैकेट को गाड़ी में रखकर चाकसू लाते है। यहां आने के बाद उनका ड्राईवर व कर्मचारी कच्ची बस्तियों में जाकर इन पैकेट्स का वितरण करते है। जरूरी सामान समाप्त हो जाने पर वो फोन करके उपखंड अधिकारी से ही बाजार का सामान भी मंगवाती है।

देश को प्राथमिकता देकर कर रहे सेवा
देवगांव। लॉकडाउन के चलते जहां कर्मवीर अपने अपने विभागों में कोरोना योद्धा बनकर सेवाएं दे रहे हैं। वहीं पारिवारिक परिस्थितियां विषम होने के बावजूद भी देश सेवा को वरीयता देकर कोरोना योद्धा की भूमिका निभा रहे हैं। ग्राम पंचायत देवगांव के ग्राम विमलपुरा के सिंगल्या की ढाणी निवासी हनुमान मीणा आंध्रप्रदेश में रेलवे सुरक्षा बल में सेवा दे रहे हैं। आंध्रप्रदेश में सेवा दे रहे हनुमान ने पत्रिका से बातचीत करते हुए बताया कि मां लकवाग्रस्त है और पत्नी गर्भवती है। ऐसी विषम परिस्थितियों में भी देश सेवा को प्राथमिकता में रखकर घरवालों से फोन के जरिए संपर्क में है।

विभागीय अवकाश की जगह सेवा का फैसला
वहीं ग्राम विमलपुरा के ही जगदीश प्रसाद मीणा (55) सीकर जिले की कारागार में जेल प्रहरी के रूप में सेवा कर रहे है। परिजनों ने बताया कि कोरोना वायरस में 50 से अधिक उम्र के लोगों में तेजी से फैलने की जानकारी है लेकिन उन्होंने विभागीय अवकाश न लेकर सेवाएं जारी रखने का फैसला किया है।

Gourishankar Jodha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned