हवा के रूख के साथ अलवर से वापस घूमकर जयपुर जिले में घुसा टिड्डी दल, कई गांवों में किया हमला

जयपुर जिले की कई तहसीलों में टिड्डयों के आक्रमण का खतरा, किसानों की बढ़ी चिंता

By: Satya

Published: 28 May 2020, 11:14 PM IST


शाहपुरा। कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे के बीच टिड्डियों के आक्रमण ने फसलों को लेकर किसानों की नींद उड़ा दी है। टिड्डी दल जयपुर जिले की सीमा पार करने के बाद हवा के रूख के साथ फिर से अलग-अलग टुकड़ों में वापस लौट रहा है। इससे विराटनगर, जमवारामगढ़, शाहपुरा, पावटा, आमेर, कोटपूतली सहित आसपास की तहसीलों में टिड्डियों के आक्रमण का खतरा बढ़ गया है।

कृषि विभाग के अधिकारियों के मुताबिक देर शाम करीब 6 बजे बाद हवा का रूख बदलते ही टिड्डी दल अलवर से वापस उडक़र जयपुर जिले की जमवारामगढ़्र आंधी व विराटनगर के कुछ गांवों में आकर धावा बोल दिया। विराटनगर के ग्राम पालड़ी, घेवता, बिहाजर व आसपास के गांवों में टिडिडयों ने फिर से खेतों व पेड़ों पर हमला बोल दिया। जिससे किसान चिंता में है।

हालांकि मंगलवार रात को आमेर व जमवारामगढ़ इलाके के एक दर्जन से अधिक गांवों में खेतों में खड़ी सब्जियों की फसलों को चट करने के बाद रात को कृषि विभाग की टीम ने दो जगह पेस्टिसाइड का छिडक़ाव कर नियंत्रित करने का प्रयास किया और लाखों टिडिडयां हवा के रूख से के साथ उडकर दौसा व अलवर की तरफ चली गई थी, लेकिन गुरूवार शाम करीब 6 बजे हवा का रूख बदलते ही टिड्डियों का दल वापस से जिले के विराटनगर, जमवारामगढ़ व आंधी क्षेत्र में घुस कर खेतों में धावा बोल दिया। इससे किसानों की चिंता बढ़ गई है। हालात यह है कि सब्जियों की फसलों को लेकर चिंतिंत किसान रातभर जागकर खेतों की रखवाली कर रहे हैं।


टिड्डी दल ने सब्जी की फसलों को पहुंचाया नुकसान
चंदवाजी। क्षेत्र के रूंडल मानपुरा माचेड़ी तथा चिताणु में टिड्डी दल के हमला कर फसलों को नुकसान पहुंचाया है। किसानों ने नष्ट हुई फसलों के नुकसान को लेकर सरकार से गिरदावरी कर मुआवजा देने की मांग की है। वहीं, कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना है कि फसलों में कोई विशेष नुकसान नहीं हुआ। पहले ही पेस्टिसाइड का छिडक़ाव कर वीडियो को नियंत्रित कर दिया गया। जबकि टिडिडयों ने कानपुरा के खारडा में पड़ाव डालते हुए क्षेत्र की सब्जियों तथा ज्वार , बाजरा की फसलों को काफी नुकसान पहुंचाया है। काफी संख्या में टिड्डियों के दल को देखकर कृषि विभाग के कर्मचारियों ने क्लोरोपायरी फॉस सहित अन्य पेस्टिसाइड का छिडक़ाव कर करीब 70त्न टिडिडयों को नष्ट कर दिया गया। किसान सीताराम यादव, सीताराम ईसरवाल, मनोहर, गोपाल गोळ्या ने बताया कि उन्होंने पीपे, ढोल व धुंआ करके टिड्डियों को भगाने का प्रयास किया, फिर भी कई खेतों में नुकसान हुआ है।

--------

टिड्डी दल दोपहर 3 बजे गोला का बास में था। बाद में दल ने टुकड़ों में अलग-अलग क्षेत्र के गांवों में दस्तक दी है। टिड्डी दल के टहराव से फसल व पेड़ों को नुकसान होगा। रात को टिड्डी दल पर स्प्रे कराया जा रहा है। रात्री को करीब 12 बजे तक टिड्डी दल को नष्ट कर पाएंगे। ---------अशोक कुमार चौधरी, सहायक कृषि अधिकारी, मैड़

-----------
हवा के रूख के साथ टिडडी दल देर शाम को अलवर से वापस लौट आया है। अभी जमवारामगढ़ आंधी व विराटनगर क्षेत्र के कुछ गांवों में है। कृषि विभाग अलर्ट है। सभी संसाधन के साथ हमारी टीम मौके पर पहुंच गई है। क्लोरोपायरी फॉस सहित अन्य पेस्टिसाइड का छिडक़ाव कर देर रात तक टिडिडयों को नष्ट किया जाएगा। -----सरदारमल यादव, सहायक निदेशक कृषि विस्तार, शाहपुरा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned