tiddi अलवर की ओर से शाम को फिर जयपुर में आया टिड्डी दल

किसानों की बढ़ी चिंता

By: Surendra

Published: 28 May 2020, 11:03 PM IST

शाहपुरा/मैड़. कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे के बीच टिड्डियों के आक्रमण ने फसलों को लेकर किसानों की नींद उड़ा दी है। टिड्डी दल जयपुर जिले की सीमा पार करने के बाद हवा के रुख के साथ फिर से अलग-अलग टुकड़ों में वापस लौट रहा है। इससे विराटनगर, जमवारामगढ़, शाहपुरा, पावटा, आमेर, कोटपूतली सहित आसपास की तहसीलों में टिड्डियों के आक्रमण का खतरा बढ़ गया है। किसानों ने बताया कि देर शाम करीब 6.30 बजे बाद विराटनगर के ग्राम पालड़ी, घेवता, बिहाजर व आसपास के गांवों में टिड्डियों में फिर से खेतों व पेड़ों पर हमला बोल दिया। हालांकि मंगलवार रात को आमेर व जमवारामगढ़ इलाके के एक दर्जन से अधिक गांवों में खेतों में खड़ी सब्जियों की फसलों को चट करने के बाद रात को कृषि विभाग की टीम ने दो जगह पेस्टिसाइड का छिड़काव कर नियंत्रित करने का प्रयास किया और लाखों टिडिडयां हवा के रुख से के साथ उडकर दौसा व अलवर की तरफ चली गई थी, लेकिन गुरुवार शाम फिर लौट आई।

इनका कहना है

टिड्डी दल दोपहर 3 बजे गोला का बास में था। बाद में दल ने टुकड़ों में अलग-अलग क्षेत्र के गांवों में दस्तक दी है। टिड्डी दल के ठहराव से फसल व पेड़ों को नुकसान होगा। रात को टिड्डी दल पर स्प्रे कराया जा रहा है। रात्रि को करीब 12 बजे तक टिड्डी दल को नष्ट कर पाएंगे।

अशोक कुमार चौधरी, सहायक कृषि अधिकारी, मैड़

हवा के रुख के साथ टिड्डी दल देर शाम को अलवर से जमवारामगढ़ आंधी व विराटनगर क्षेत्र के कुछ गांवों में पहुंचा। कृषि विभाग अलर्ट है। सभी संसाधन के साथ हमारी टीम मौके पर पहुंच गई है। क्लोरोपायरी फॉस सहित अन्य पेस्टिसाइड का छिड़काव कर देर रात तक टिडिडयों को नष्ट किया जाएगा।

सरदारमल यादव, सहायक निदेशक कृषि विस्तार, शाहपुरा

Surendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned