जिम्मेदारों की लापरवाही, नौनिहालों की परेशानी

ग्राम पंचायत काशीपुरा के ग्राम चैनपुरा और कचौलिया के आंगनबाड़ी केन्द्र का मामला- 3 वर्ष में भी बनकर तैयार नहीं हुआ चैनपुरा आंगनबाड़ी भवन- क्षतिग्रस्त भवन में चल रहा कचौलिया का केन्द्र

By: Gourishankar Jodha

Published: 20 Oct 2020, 07:09 PM IST

देवगांव। एक तरफ नौनिहालों को उचित माहौल व पौष्टिक आहार मुहैया करवाने के उद्देश्य से सरकार द्वारा आंगनबाड़ी भवनों का निर्माण करवाया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर जिम्मेदारों की लापरवाही के चलते क्षेत्र के कई आंगनबाड़ी केन्द्र दुर्दशा के शिकार हो रहे हैं। 3 वर्ष से भी अधिक समय गुजर जाने के बाद भी ग्राम पंचायत काशीपुरा के ग्राम चैनपुरा के आंगनबाड़ी भवन का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो पाया है। इसके चलते आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को स्वयं के घर पर आंगनबाड़ी को संचालित करना पड़ रहा है। ऐसे मेें नौनिहालों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कचौलिया के आंगनबाड़ी केन्द्र पर भवन की स्थिति खराब है। भवन की छत की पट्टियां टूटी हुई हैं, जिससे हर समय खतरा बना रहता है।

कार्यकर्ता के मकान में चल रहा केन्द्र
आंगनबाड़ी भवन का निर्माण नहीं होने से नौनिहालों के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कांता शर्मा द्वारा स्वयं के मकान में ही केन्द्र संचालित किया जा रहा है।

एक दूसरे पर टाल रहे जिम्मेदारी
करीब 7 लाख रुपए की लागत से बनने वाले आंगनबाड़ी भवन का निर्माण पिछले 3 वर्ष से भी अधिक समय से रुक-रुक कर चल रहा है। जिम्मेदार अधिकारी एक-दूसरे पर जिम्मेदारी डाल बच रहे हैं।

निर्माण का विवादों से रहा नाता
करीब सालभर पूर्व तत्कालीन ठेकेदार को आंगनबाड़ी भवन निर्माण का भुगतान नहीं होने पर ठेकेदार ने राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई थी। जानकार बताते हैं कि उक्त शिकायत की जांच में दोषी पाए जाने पर ही तत्कालीन सचिव को एपीओ किया गया था। लेकिन इस घटनाक्रम के तीन साल बीत जाने के बाद भीआंगनबाड़ी भवन का निर्माण पूर्ण नहीं होना जिम्मेदारों की लापरवाही दर्शाता है।

Gourishankar Jodha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned