अब ऐसे मिलेगी बंदरों के उत्पात से निजात

बंदरों के उत्पात से आए दिन लोग चोटिल और घायल हो रहे थे लोग, ग्राम पंचायत ने बंदरों को पकडऩे के लिए बड़ा पिंजरा लगवाया

By: Gourishankar Jodha

Published: 15 Oct 2020, 11:35 PM IST

मुद्दाभानपुर कलां। क्षेत्र के लोगों को बंदरों के उत्पात से राहत मिल सकेगी, इसके लिए ग्राम पंचायत ने बंदरों को पकडऩे के लिए बड़ा पिंजरा लगवाया है। ज्ञात हो कि बंदरों के उत्पात से आए दिन लोग चोटिल और घायल हो रहे हैं। राजस्थान पत्रिका ने लगातार समाचार प्रकाशित कर ग्रामीणों की इस समस्या को जिम्मेदारों तक पहुंचाया।
जानकारी के अनुसार गली-मोहल्लों व आसपास के क्षेत्र में कई वर्षों से बंदरों का उत्पात बचा हुआ था। ऐसे में नव निर्वाचित सरपंच जगदीश बाडीवाल द्वारा कार्यभार सम्भालते ही पंचायत प्रशासन हरकत में आया और बंदर पकडऩे वाले ठेकेदार से बातचीत करने के बाद क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय भवन पर बंदर पकडऩे के लिए पिंजरा लगाया। बंदर पकडऩे वाले शिकारियों ने पिंजरे में मूंगफली व दाना डालकर बंदर पकडऩे का अभ्यास किया। पिंजरे में दाना डालने के बाद आवाज लगाने पर इधर-उधर से बंदर आने लगे और कभी पिंजरे के अंदर तो कभी बहार उछलकूद करने लगे। ऐसे में ग्राम पंचायत द्वारा पिंजरा लगाने के बाद ग्रामीणों को बंदरों के आतंक से निजात मिलने की उम्मीद जगी है। इसे लेकर कस्बेवासियों राहत महसूस की।

पहले 50 हजार की घोषणा
सरपंच बाडीवाल ने चुनाव जीतने के बाद पंचायत का कार्यभार सम्भालते ही ग्रामीणों की सुरक्षा की बात कहते हुए अपने निजी खर्चे से बंदरों को पकड़वाने के लिए पचास हजार की घोषणा की थी। इसके बाद

अब ये दूसरा प्रयास किया गया है
बंदरों से ग्रामीण इस कदर परेशान और डरे हुए है कि अपने घर-दुकानों की छतों पर डंडा-लाठी रखने लगे हैं। बंदरों का झुंड आने पर लाठियां दिखाकर उन्हें अपना बचाव करना पड़ रहा है।

छत पर डंडा व लाठियां रखने लगे ग्रामीण
वहीं, क्षेत्र में लोगों ने बंदरों के हमलों से बचने के लिए कई ग्रामीणों ने तो अपने मकानों की बालकोनियों पर लोहे का जाल तक लगवा लिया है। ग्रामीणों का कहना है लोहे का जाल लगवाना जैसे मजबूरी बन गया है।

Gourishankar Jodha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned