पैंथर का अजीतगढ़ के बाजरों में सरपट दौडऩे के बाद फिर से आबादी में क्षेत्र में मुवमेंट

जंगल क्षेत्र में नहीं की गई पेयजल की व्यवस्था
प्यास बुझाने आबादी में दस्तक दे रहा है पैंथर

शाहपुरा/अजीतगढ़.


अजीतगढ कस्बे के बाजारों में 3 नवम्बर को पैंथर के सरपट दौड़ लगाने के बाद भी वन विभाग द्वारा जंगल क्षेत्र में पेयजल की व्यवस्था नहीं करने से फिर से आबादी क्षेत्र में पैथर का मुवमेंट होने लगा है। जिससे कस्बे के लोगों में दहशत है।

रात को पैंथर की दहाड़ आबादी क्षेत्र मे गूंजने व पैंथर की आवाजाही बढऩे से लोगो में दहशत का माहौल है। ग्रामीणों का कहना है कि विगत 4 दिनों से कस्बे की जनता कॉलोनी के लक्ष्मीनिवास बाग में बनी खेली पर प्रतिदिन पैंथर के पगमार्क देखने को मिल रहे हैं। जिससे लोगों में दहशत का माहौल है।

जानकारी के अनुसार वन विभाग की वन्य जीव गणना में कभी भी क्षेत्र में पैंथर होने के प्रमाण नहीं मिले है, लेकिन गणना के बाद क्षेत्र में कई बार पैंथर के पूरे कुनबे के पगमार्क देखने को मिले हैं। ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र में लम्बे समय से पैंथर का कुनबा विचरण कर रहा है। लोगों को पैंथर के साथ उसके शावक भी नजर आए है।

विगत दो तीन वर्ष से आए दिन कस्बे की जनता कॉलोनी, इन्द्रा कॉलोनी, बांगड कॉलोनी, बंसत विहार, जगदीश धाम, धाराजी, सीपुर व पहाडी क्षेत्र के आसपास कई बार आबादी क्षेत्र में भी वन्यजीवों की आवाजाही देखी गई है।

कुछ वर्षों पूर्व कस्बे की जनता कॉलोनी के लक्ष्मी निवास बाग में श्वान व गाय का शिकार करने व आए दिन बाग की खेली में पेयजल के लिए पैंथर आने की सूचना पर भी वन विभाग द्वारा पैंथर होने की पुष्टि नहीं करने पर जनता कॉलोनी के लक्ष्मी निवास बाग में स्थानीय लोगों द्वारा सीसीटीवी कैमरे में गतिविधियों को कैद किया तो बघेरा होने की पुष्टि हुई।

इसके बाद 3 नवम्बर को कस्बे के बाजारों में सरपट दौड़ लगाने वाले पैंथर को जयपुर से आई टीम ने सात घंटे की मशक्कत के बाद ट्रेक्युलाईज किया था। इसके बाद अब पिछले 4 दिन से पैंथर का मुवमेंन्ट जारी है। आबादी क्षेत्र मे पैंथर की दस्तक से पशुधन को लेकर ग्रामीणों ने चिंता व्यक्त करते हुए वन विभाग से पैंथर को पकडऩे की मांग की।

-----------
इनका कहना है
जनता कॉलोनी के लक्ष्मीनिवास बाग मे पैंथर की दुबारा दस्तक होने की जानकारी नही है। पैंथर के पगमार्क देख कर ही पुष्टि कर सकते है। वन क्षेत्र में पेयजल व्यवस्था के लिए उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया जाएगा।---------- शिव सहाय जाट, वनपाल, अजीतगढ

Satya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned