Change Maker : अधिवक्ताओं ने एक सुर में कहा, विकास में राजनीति नहीं, राजनीति में विकास हो, बने राजनीति में बदलाव के पक्षधर

vinod Sharma

Publish: May, 17 2018 06:28:36 PM (IST)

Bassi, Jaipur, Rajasthan, India
Change Maker : अधिवक्ताओं ने एक सुर में कहा, विकास में राजनीति नहीं, राजनीति में विकास हो, बने राजनीति में बदलाव के पक्षधर

बस्सी तहसील परिसर में बार एसोसिएशन के पदाधिकारी और अन्य अधिवक्ताओं ने लिया संकल्प

बस्सी (जयपुर)। आज फिर स्वच्छ और स्वस्थ राजनीति के लिए आवाज बुलंद हुई। सामूहिक चर्चा की, फिर सुझाव भी सामने आए। संकल्प लेते हुए विकास की राजनीति का पक्ष लिया। मौका था वकीलों के बीच परिचर्चा का। राजस्थान पत्रिका की ओर से चलाए जा रहे 'चेंजमेकर्स : बदलाव के नायक' अभियान के तहत गुरुवार को बस्सी में ये परिचर्चा आयोजित की गई। स्थानीय बार एसोसिएशन के सहयोग से हुए इस कार्यक्रम में अधिवक्ताओं ने स्वच्छ और स्वस्थ पारदर्शी राजनीति की पैरवी की।

साथ दें, भ्रष्टों को राजनीति से बाहर करें : अमरीश
हम अपना मत देकर जनप्रतिनिधि चुनते हैं। वो प्रतिनिधि हमारा प्रतिनिधित्व करते हुए हमारी समस्याओं और अपेक्षाओं को सरकार तक पहुंचाकर उन्हें पूरी करवाता है, हमारी जरूरतों को पूरी करने के लिए लड़ता है। इसके लिए हमें लडऩे की जरूरत नहीं है, लेकिन आज के परिदृश्य में ऐसा बिलकुल नहीं है। आज तो हमें ही अपनी लड़ाई लडऩी पड़ रही है। वो जनप्रतिनिधि तो अगली बार की तैयारी में लगा हुआ है। हमें अपनी जरूरतों के लिए प्रदर्शन करना पड़ रहा है। कुछ इस तरह बार एसोसिएशन बस्सी अध्यक्ष अमरीश शर्मा ने अपनी बात शुरू की। उन्होंने कहा कि राजधानी से मात्र 27 किलोमीट दूर होने के बावजूद भी हम पिछड़े हुए हैं। वहीं राजधानी से लगते दूसरे कस्बों को देखें, तो वे शहर का ही एक हिस्सा लगते हैं। विकास के नाम पर बस्सी को जेडीए जोन तो बना दिया, लेकिन जेडीए का काम नजर नहीं आ रहा है। वहीं दूसरे कस्बे शिक्षा, चिकित्सा, रोजगार आदि के मामले में हमसे कहीं आगे हैं। उन्होंने कहा कि पत्रिका के चेंजमेकर अभियान से जुड़कर हम अपना सच्चा नायक चुन सकते हैं, जो विकास की राह पर ले जाए।

नैतिकता, शिक्षा और दूरदर्शिता देखें : कुलदीप शर्मा
अधिवक्ता कुलदीप शर्मा ने कहा कि आज जनप्रतिनिधि पैसों के दम पर राजनीति कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेरे अनुसार आज की राजनीति में आपराधिक प्रवृति के लोग शीर्ष पर काबिज होना चाहते हैं और वे अपने मनसूबों में कामयाब भी हो रहे हैं। जो राजनीति में आईकन बनने चाहिए, ऐसे लोगों को मौका नहीं मिल पा रहा है। इसलिए अब समय आ गया है कि नैतिकता और शिक्षा की राजनीति का। पत्रिका ये अवसर दे रहा है, तो इसका लाभ भी लेना होगा।

 

 

 

Changemaker campaign in jaipur

बदलाव के शुरू हो गई पहल : मनीष शर्मा
अब नहीं, तो कभी नहीं। यही मानकर हमें राजनीति को स्वच्छ करना है। अधिवक्ता मनीष शर्मा ने कहा कि आपराधिक प्रवृति वाले प्रत्याशी को अवसर नहीं देना है। उन्होंने कहा कि हमें प्रत्याशी और सहयोगी के रूप में वर्तमान में व्याप्त भ्रष्ट राजनीति के परिवेश को बदलने का अवसर मिल रहा है। विकास में किसी प्रकार की राजनीति नहीं होनी चाहिए, राजनीति में विकास होना चाहिए।

ये भी बने अभियान के साक्षी
तहसील और न्यायालय परिसर में बैठने वाले 30 से अधिक अधिवक्ता और उनके प्रैक्टिशर्स ने कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। एक सुर में अभियान की सफलता के लिए शुभकामनाएं दी। हमेशा की तरह इस अभियान को भी जमीन से जुड़े जन के सरोकारी बताया। उन्होंने कहा कि इसके जरिए राजनीति का न केवल परिवेश बदल जाएगा, बल्कि स्वच्छ और स्वस्थ छवि वाले सच्चे लोगों को राजनीति में आने का अवसर मिलेगा। इस दौरान एडवोकेट विनोद कुमार शर्मा, राजेश कुमार शर्मा, सुधीर शर्मा, रामगोपाल शर्मा, राकेश शर्मा, दिलीप मिश्रा, राजाराम जाट, कमल किशोर शर्मा, रमेशचंद शर्मा, पवन कुमार शर्मा, हरिमोहन शर्मा, प्रीतम कुमार शर्मा, सुरेशचंद शर्मा, सुरेश शर्मा, कुलदीप शर्मा, मनीष शर्मा, दिनेश शर्मा , रामजीलाल शर्मा, सनातन पारीक, पंडित लक्ष्मण शर्मा, कपिल कुमार शर्मा, अवधेश पारीक, हनुमान सहाय मीना, ओमकार सिंह गुर्जर, राकेश महावर, सीताराम सैनी सहित कई अन्य अधिवक्ता भी शामिल हुए। सभी ने अधिवक्ताओं को अभियान से जोडऩे के लिए धन्यवाद दिया।

सेवा के लिए 'चेंजमेकर' और सहयोग के लिए 'वॉलेंटियर'
शुरुआत के साथ उन्हें अभियान करी रूपरेखा और इसके उद्देश्य के बारे में बताया गया। उन्हें बताया गया कि आप जनप्रतिनिधि के रूप में जनसेवा करना चाहते हैं, तो पत्रिका के जरिए 'चेंजमेकर' की श्रेणी में नामांकन कर सकते हैं। यदि सहयोगी बनने की इच्छा रखते हैं, तो 'वॉलेंटियर' बन सकते हैं। इसके लिए ऑनलाइन और मैनुअली रजिस्ट्रेशन फार्म भर सकते हैं। उन रजिस्ट्रेशनों पर जूरी मेम्बर चर्चा करेंगे। इसके बाद मौजूद वकीलों में से कईयों ने 'चेंजमेकर', तो अधिकांश ने 'वॉलेंटियर' बनने की इच्छा जताई। इस पर इन्हें पूरी प्रक्रिया समझाई गई। बदलाव के महानायक की वेबसाइट, एप आदि के बारे में अपडेट किया गया।

बैनर को देखते ही बढ़ा उत्साह
पत्रिका के अभियान को लेकर पहले से ही अधिवक्ताओं में चर्चा बनी हुई थी। इसलिए न्यायालय परिसर में एक-दूसरे को आवाज लगाकर चर्चा की जानकारी दी, फिर सभी मिलकर तहसील परिसर पहुंचे। यहां सभी ने अपने साथी अधिवक्ताओं को एकत्रित किया। इस बीच जैसे ही उन्होंने राजस्थान पत्रिका के 'चेंजमेकर्स' (बदलाव के नायक) अभियान वाले बैनर पर खुद को देखा, तो उनका उत्साह बढ़ गया। सभी बैनर को लेकर उसके स्लोगन को सराहने लगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned