पुलिस की कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए जन सहयोग जरूरी


राजस्थान पत्रिका का पुलिस -पब्लिक संवाद कार्यक्रम

#Rajasthanpatrka'spolice-publicsamvadprogram#

#police-public samvad program#

rajasthan patrika

By: Satya

Published: 31 Mar 2021, 08:40 PM IST


शाहपुरा। पुलिस व जनता के बीच की दूरियों को मिटाने, उनमें सामंजस्य स्थापित करने व विश्वास बढ़ाने के उददेश्य से राजस्थान पत्रिका की ओर से पुलिस पब्लिक संवाद अभियान की शुरूआत की गई।

डीजीपी एमएल लाठर ने प्रदेश के लोगों से वर्चुअल संवाद कर इस अभियान की शुरूआत की। अभियान के तहत जयपुर ग्रामीण जिले के शाहपुरा कस्बे में दोपहर १ बजे पुलिस व युवाओं और विभिन्न वर्ग के लोगों के साथ संवाद कार्यक्रम हुआ।

जिसमें युवाओं, व्यापारियों, विद्यार्थियों, समाजसेवियों, सीएलजी सदस्यों, पुलिस मित्रों और विभिन्न वर्ग के लोगों ने वर्तमान में बढ़ते अपराधों, साइबर क्राइम पर लगाम लगाने, महिलाओं पर बढ़ रहे अपराधों पर अंकुश लगाने, पुलिस के ध्येय वाक्य आमजन में विश्वास, अपराधियों में भय को कायम रखने और पुलिस व जनता के बीच की दूरियों को मिटाने पर जोर दिया। क्षेत्रवासियों ने विभिन्न समस्याएं भी पुलिस को बताई।

साहित्यकार रामस्वरूप रावतसरे ने कहा कि प्रबुद्धजन, पुलिस के साथ समाजहित में काम करना चाहते है। पुलिस प्रशासन को चाहिए कि वह ऐसे लोगों से, सगंठनों से जन समस्याओं पर समय समय पर संवाद करें। जिससे पुलिस को भी मदद मिलेगी। शिक्षाविद विश्वनाथ वर्मा ने कहा कि इन दिनों अपराधियों का अपराध करने का तरीका बदल रहा है। साइबर क्राइम बढ रहे है। जबकि पुलिस थानों में साईबर एक्सपर्ट नहीं है।

श्रीराम सेवा समिति के संरक्षक रमेश कुमावत ने कहा कि शाहपुरा बड़ा कस्बा है, हाईवे से सटा है, यहां अपराध बढ़ रहे हैं। जबकि कस्बे में लाखों रुपए खर्च कर लगाए गए सीसीटीवी कैमरे बन्द पड़े है। अपराध होने पर पुलिस कैमरे खंगालती है तो बंद मिलते हैं। जिससे अपराधियों को पकडऩे में परेशानी आती है। इन्हें तत्काल ठीक कराया जाए जिससे 24 घण्टे निगरानी हो।

आरटीआई कार्यकर्ता विजय ताम्बी ने कहा कि शाहपुरा सहित कई पुलिस थानों में स्टाफ की कमी है। उसे पूरा किया जाए। साथ ही किराए से रह रहे बाहरी लोगों का सर्वे होना चाहिए। जिससे अपराधों में कमी जाए। शाहपुरा युवा विकास मंच अध्यक्ष राजेश मंडोवरा ने कहा कि सीएलजी में निष्क्रिय सदस्य भर रखे हैं, जो बैठकों में भी नहीं आते। पुलिस को सीएलजी में कर्मठ और सेवा भावी लोगों को लेना चाहिए।

समाजसेवी महेश पारीक ने कहा कि इलाके में दिन प्रतिदिन अपराध बढ रहे है। जिससे आमजन में असुरक्षा और भय है। पुलिस को आमजन में विश्वास बढ़ाकर सुरक्षित एवं भय मुक्त वातावरण बनाना चाहिए। मदन लाल सैनी ने कहा कि कस्बे में जितने भी एटीएम है उनमें गार्ड नही है। जिससे आए दिन लूट की वारदातें होती है। किराना व्यापार एसोसिएशन अध्यक्ष संतोष अजमेरी वाले व शाहपुरा व्यापार मंडल अध्यक्ष राजकुमार अग्रवाल ने व्यापारियों के साथ हुई चोरी, लूट, फायरिंग की घटनाओं का खुलाशा करने की मांग की।

इस दौरान पुलिस मित्र विक्रम कसाणा, सीएलजी सदस्य रोहिताश बढ़ाना, धर्मपाल यादव, रामसिंह कसाणा, मुकेश बालानी व पूर्व पार्षद विशाल धेधड़ ने महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों पर अंकुश लगाने, महेश कुमार ढिलाण, अकरम मोहम्मद, राजेश पलसानियां, इन्द्राज मारवाल, ओम प्रकाश सैनी, राकेश धानका ने क्षेत्र में केमिकल डालकर रुपए चुराने वाले गिरोह को पकडऩे की मांग की। सभी युवाओं ने पुलिस के सहयोग के लिए तत्पर रहने का भरोसा दिया।

थानाधिकारी ने कहा कि पुलिस जनता के लिए है। हम 24 घण्टे तत्परता से लगे रहते है। पुलिस का पूरा प्रयास अपराधों पर अंकुश लगाना और आमजन में विश्वास कायम करना है। संसाधनों की कमी से कई बार समस्या आ जाती है। पुलिस के सामने बहुत सी चुनौतियां तथा जन समस्याओं की भी बहुतायतता है, लेकिन जन सहयोग ऐसी ताकत है। जिसके बल पर जन समस्याओं का भी समाधान होगा, अपराधों पर भी अंकुश लगेगा और पुलिस की भी कार्यक्षमता बढेगी। उन्होंने सीसीटीवी कैमरों के लिए तकनीकी कर्मचारी लगाने, अपराधों पर अंकुश लगाने और आमजन में विश्वास कायम करने का भरोसा दिया। कार्यक्रम का संचालन साहित्यकार रामस्वरूप रावतसरे ने किया।

--------------
संवाद कार्यक्रम में यह मुददे आए सामने
- पुलिस व जनता के बीच की दूरियां कम हो, उनमें सामंजस्य स्थापित हो
- पुलिस के ध्येय वाक्य आमजन में विश्वास, अपराधियों में भय को कायम करने का प्रयास हो
-बढ़ते गंभीर अपराधों पर अंकुश लगे
-साइबर क्राइम की रोकथाम के लिए पुलिस थानों में साइबर एक्सपर्ट हो
-महिलाओं पर बढ़ रहे अपराधों पर अंकुश लगे, सभी जगह महिला कॉलेजों और स्कूलों के बाहर सादा वर्दी में पुलिसकर्मी तैनात हो
-पुलिस थानों में पर्याप्त स्टाफ हो और संसाधनों में बढोतरी हो
-शाहपुरा कस्बे में सीसीटीवी कैमरे बन्द पड़े है। उनको ठीक कर 24 घंटे निरागनी के लिए तकनीकी कर्मचारी लगाया जाए
-किराए से रह रहे बाहरी लोगों का सख्ती से सर्वे हो, जिससे अपराधों में कमी आए
-सीएलजी में निष्क्रिय सदस्य भर रखे हैं, उनको हटाकर कर्मठ और सेवा भावी लोगों को लेना चाहिए
-अधिकांश जगह बैकों के एटीएम में गार्ड नहीं रहते, उनको पाबंद करें
-पुलिसकर्मियों को अपने व्यवहार में बदलाव लाना चाहिए, जिससे आमजन डरे नहीं

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned