लॉकडाउन के बाद रोडवेज ने फिर पकड़ी रफ्तार, यात्रीभार रहा कम


शाहपुरा डिपो को प्रतिदिन दो लाख का नुकसान

By: Satya

Published: 11 Jun 2021, 09:29 PM IST


शाहपुरा। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में पाबंदी के चलते करीब एक माह तक लॉकडाउन रहने के बाद गुरुवार को रोडवेज बसें सडक़ों पर दौड़ी। रोडवेज बसों का संचालन शुरू होने के दूसरे दिन भी भी बसों में यात्रीभार बहुत कम रहा। कई रूट की बसों में तो चंद यात्री होने से बसें खाली नजर आई, लेकिन रोडवेज प्रशासन को धीरे-धीरे यात्रीभार बढऩे की उम्मीद है।

13 बसें 10 रूटों पर संचालित

अभी शाहपुरा डिपो की 13 बसें 10 रूटों पर संचालित की गई। सभी 13 बसों में महज 883 यात्रियों ने सफर किया, जिससे रोडवेज प्रशासन को मात्र २५ हजार की आय हुई। जिसमें डीजल का खर्चा भी नहीं निकला, लेकिन यात्रियों की सुविधा को देखते हुए बसों का संचालन अभी जारी रहेगा। बसों का संचालन शुरू होने से कई कस्बों और गांवों के लोगों को आवागमन की सुविधा मिली है।

धुलाई और सेनेटाइजेशन करने के बाद ही रूटों पर रवाना किया


रोडवेज डिपो के यातायात प्रभारी श्याम बाबू सिसोदिया ने बताया कि बसों को वर्कशॉप में धुलाई और सेनेटाइजेशन करने के बाद ही रूटों पर रवाना किया गया। साथ ही रोडवेज बसों में यात्रा करने के लिए प्रत्येक यात्री के मुंह पर मास्क होना भी आवश्यक है। तभी उनको यात्रा की अनुमति दी गई है। सोशल डिस्टेंस का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। ताकि संक्रमण से बचाव हो सके। बसों के लौटने के बाद फिर से धुलाई और सेनेटाजेशन किया गया। यातायात प्रभारी सिसोदिया ने बताया कि यदि यात्रीभार बढ़ा तो सोमवार से बसें बढ़ाई जाएगी।

प्रतिदिन दो लाख का नुकसान
लॉकडाउन में दौरान शाहपुरा डिपो को करीब ७० लाख से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा है। अब बसें चालू होने पर भी यात्रीभार कम होने से रोडवेज को प्रतिदिन नुकसान झेलना पड़ रहा है। शाहपुरा डिपो की बात करें तो प्रतिदिन करीब दो लाख रुपए से अधिक का नुकसान हो रहा है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned