scriptराजस्थान में भूखण्डों का पट्टा जारी करने वाली नगरपालिका को नहीं मिल रहा ‘आसरा’ | Patrika News
बस्सी

राजस्थान में भूखण्डों का पट्टा जारी करने वाली नगरपालिका को नहीं मिल रहा ‘आसरा’

बस्सी नगरपालिका के पास स्वयं का भवन नहीं होने के कारण पुराने पंचायत भवन कार्यालय में ही चल रही है।

बस्सीJun 12, 2024 / 05:21 pm

vinod sharma

बस्सी नगरपालिका

तीन वर्ष बाद भी नहीं मिली भूमि, बस्सी शहर का नहीं हो रहा विकास

ग्राम पंचायत से नगरपालिका में क्रमोन्नत हुई बस्सी नगरपालिका को तीन वर्ष बाद भी कार्यालय के लिए भूमि नहीं मिल रही है, जिसके चलते नगरपालिका कार्यालय पंचायत भवन के पुराने कार्यालय में ही संचालित हो रही है। सूत्रों की माने तो नगरपालिका प्रशासन अब एक बार फिर से जयपुर विकास प्राधिकरण में भूमि आवंटन के लिए प्रस्ताव तैयार कर भिजवाने की तैयारी कर रही है। नगरपालिका के पास स्वयं का भवन नहीं होने के कारण पुराने पंचायत भवन कार्यालय में ही चल रही है, जहां पर ना तो अधिकारियों को बैठने के लिए जगह है और ना ही कर्मचारियों के लिए पर्याप्त कक्ष है। यहां तक संसाधन खड़े करने के लिए भी जगह नहीं है। जबकि बस्सी नगरपालिका को गत कांग्रेस सरकार ने करीब तीन वर्ष पहले बजट में ग्राम पंचायत से नगरपालिका में क्रमोन्नत किया था। आश्चर्य की बात तो यह है कि जो नगरपालिका शहर में लोगों के भूखण्डों का पट्टा जारी करती है उसी को अपने भवन के लिए जगह नहीं मिल पा रही है।उल्लेखनीय है कि बस्सी नगरपालिका का गठन हुए तीन वर्ष से अधिक समय हो गया है, लेकिन अभी तक सरकार ने यहां पर बोर्ड के चुनाव नहीं करवाए हैं। ऐसे में यहां पर प्रशासक का ही राज चल रहा है। यदि बोर्ड के चुनाव हो जाते तो नगरपालिका के लिए भूमि आवंटन एवं शहर के विकास में जनप्रतिनिधि रुचि लेते, लेकिन प्रशासक राज होने के कारण अधिकारियों की मनमर्जी चल रही है।
गोनेर रोड के लिए भिजवाया जा चुका प्रस्ताव
पिछले वर्ष तत्कालीन अधिशासी अधिकारियों ने बस्सी नगरपालिका कार्यालय के लिए गोनेर रोड पर भूमि चिह्ति कर आवंटन के लिए जेडीए में फाइल भिजवाई थी। लेकिन जेडीए ने भूमि आवंटन नहीं की। इधर बस्सी नगरपालिका के वर्तमान अधिशासी अधिकारी ने बताया कि चरागाह भूमि से सिचायचक भूमि में कनर्वट होने के बाद ही नगरपालिका को भूमि आवंटित हो पाएगी। जबकि बस्सी शहर में भूमि आवंटन करने का अधिकार जेडीए के पास है। ऐसे में पहले भूमि चिह्नित कर प्रस्ताव जेडीए में भिजवाना पड़ेगा।
कचरा निस्तारण के लिए कर ली भूमि चिह्नित
नगरपालिका अधिशासी अधिकारी ने बताया कि अभी तक नगरपालिका कार्यालय के लिए तो भूमि चिह्नित नहीं हो पाई है, लेकिन कचरा निस्तारण के लिए जरूर रीको के समीप भूमि चिह्नित कर ली है। इसके लिए कॉमन विजिट कर ली है। पटवारी को तरमीन करनी है। इसके बाद ठोस व तरल कचरा निस्तारण के प्लांट के लिए भूमि आवंटन के लिए भी जेडीए में फाइल भिजवाई जाएगी।
वार्डों का गठन हो गया, पार्षद नहीं
बस्सी नगरपालिका में वार्डों का गठन हो गया है, लेकिन बोर्ड के चुनाव नहीं होने के कारण इनमें अभी तक पार्षद नहीं है। यदि पार्षद व चेयरमैन होता तो शायद बस्सी शहर के विकास को चार चांद लग सकते थे। यही कारण है कि बस्सी नगरपालिका को तीन वर्ष बाद भी स्वयं के कार्यालय के लिए भूमि नहीं मिल पाई है। ना ही शहर में चौमुखी विकास हो पाया है। शहर में कहीं पर रोड लाइट है तो कहीं पर नहीं है। वार्डों में साफ सफाई की भी समुचित व्यवस्था नहीं है।
इनका कहना है…
कचरा निस्तारण प्लांट के लिए तो रीको के समीप भूमि चिह्नित कर ली है। अब नगरपालिका कार्यालय भवन के लिए भी भूमि तलाशी जा रही है। इसके लिए नए सिरे से जेडीए में प्रस्ताव भिजवाए जाएंगे।
पंकज कुमार, अधिशासी अधिकारी नगरपालिका बस्सी

Hindi News/ Bassi / राजस्थान में भूखण्डों का पट्टा जारी करने वाली नगरपालिका को नहीं मिल रहा ‘आसरा’

ट्रेंडिंग वीडियो